DA Image
25 फरवरी, 2021|10:14|IST

अगली स्टोरी

भाजपा ने कहा, विपक्ष ईवीएम पर संदेह जता रहा है क्योंकि उसे अपना भविष्य पता है

Mukhtar Abbas Naqvi, Union Minority Affairs Minister

भाजपा ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की कार्यप्रणाली पर विपक्ष के रुख की तुलना युद्ध में आत्मसमर्पण कर चुकी सेना से की है और कहा है कि वह लोकसभा चुनावों में संभावित हार के लिए बलि का बकरा ढूंढ रहा है।

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने विपक्ष के 21 नेताओं की याचिका उच्चतम न्यायालय द्वारा ठुकरा दिए जाने के बाद यह बयान दिया। विपक्षी नेताओं ने उच्चतम न्यायालय से अपने पहले के आदेश की समीक्षा करने का आग्रह किया और कहा कि वीवीपीएटी स्लिप को कम से कम 25 फीसदी ईवीएम के साथ मिलान किया जाना चाहिए।

कांग्रेस हर बात में 'गलती' ढूंढने वाली पार्टी, MCC अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन नहीं कर सकता: जेटली

ईवीएम के प्रयोग पर संदेह जताने वाले विपक्ष के कुछ नेताओं ने कहा कि वे अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। नकवी ने चुनाव आयोग के बाहर संवाददाताओं से कहा, ''ईवीएम गिरोह ने आत्मसमर्पण कर दिया है क्योंकि उन्हें अपने भविष्य का पता है। 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद वे अपनी हार के लिए ईवीएम को दोषी ठहराना चाहते हैं।

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने लोकसभा चुनाव में प्रति विधानसभा क्षेत्र एक की बजाय पांच मतदान केन्द्रों में ईवीएम के साथ वीवीपैट पर्चियों का औचक मिलान करने के निर्वाचन आयोग को दिये गये आदेश पर पुनर्विचार के लिये 21 विपक्षी दलों की याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। विभिन्न दलों के विपक्षी नेता चाहते थे कि पांच केन्द्रों की बजाय इसे 50 फीसदी केंद्रों में किया जाये।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी और कपिल सिब्बल से कहा, ''हम अपने आदेश में संशोधन करने के इच्छुक नहीं है। ये दोनों वरिष्ठ अधिवक्ता आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू के नेतृत्व में याचिका दायर करने वाले विपक्षी नेताओं का प्रतिनिधित्व कर रहे थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Opposition raising doubts on EVMs as they know their fate says BJP