One mother request to prime minister not send my son abroad know the whole case - एक मां ने प्रधानमंत्री से लगाई गुहार, बेटे को विदेश न भेजने की मांग, जानें पूरा मामला DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक मां ने प्रधानमंत्री से लगाई गुहार, बेटे को विदेश न भेजने की मांग, जानें पूरा मामला

 one mother request to prime minister not send my son abroad

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत के पूरनपुर में रहने वाली एक महिला ने प्रधानमंत्री से गुहार लगाई है। विदेश से छ्ट्टी पर घर लौटे दो युवकों ने वापस जाने से मना कर दिया। उनका आरोप है कि वहां क्षमता से अधिक काम कराया जाता है। पुलिस की दखल के बाद युवकों ने पंद्रह दिन की मोहलत मांगी थी। आरोप है कि अब समय पूरा होने के बाद पुलिस उनपर वापस जाने का दबाव बना रही है। एक युवक की मां ने प्रधानमंत्री से गुहार लगाते हुए बेटे को वापस न भेजे जाने की मांग की है। 

लगभग डेढ़ साल पहले पूरनपुर के तीन युवक दिल्ली की एक कंपनी में काम करने गए थे। कुछ दिन काम करने के बाद कंपनी ने उन्हें पोलैंड भेजने की बात कही। युवकों की सहमति पर 18 महीने का पोलैंड की एक कंपनी में काम करने पर समझौता हुआ था। तीनों युवकों ने वहां तेरह महीने काम किया। ईद की छुट्टी पर 15 दिनों के लिए तीनों पूरनपुर अपने घर आ गए। समय पूरा होने के बाद उन्हें पोलैंड लौटना था। लेकिन युवक नहीं गए।

युवकों ने वहां क्षमता से अधिक दिन-रात काम कराने और जबरन नशा कराने का आरोप लगाया है। तीन में से दो युवकों ने पोलैंड जाने से मना कर दिया था। इसपर दिल्ली के कंपनी के अधिकारियों ने पुलिस से शिकायत की थी। इस पर दोनों युवकों को पंद्रह दिन का और समय दिया गया था। इनमें इजहार के परिजन उसे वापस विदेश भेजना नहीं चाहते। इजहार की मां ने विदेश में प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय में शिकायत की है।  

पूरनपुर के कोतवाल केके तिवारी ने कहा कि पुलिस की ओर से युवक को वापस भेजने के लिए दबाव नहीं बनाया जा रहा है। कंपनी से एग्रीमेंट के बाद उसने खुद छुट्टी के बाद जाने की कही थी। पुलिस पर लगाया जा रहा आरोप गलत है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:One mother request to prime minister not send my son abroad know the whole case