DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-पाकिस्तान 27 फरवरी को एक दूसरे पर मिसाइल दागने के थे बेहद करीब

while the raw chief talked to his isi counterpart  national security adviser ajit doval told his us

भारत और पाकिस्तान 27 फरवरी को एक दूसरे के ऊपर मिसाइल दागने के बेहद करीब आ गए थे। वायुसेना के विमान मिग-21 बाइसन के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को पाकिस्तान की तरफ से पकड़ने के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस पर फैसला कर रहे थे।

भारत की खुफिया एजेंसी रॉ के सेक्रेटरी अनिल धस्माना ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आसिम मुनीर को यह साफ तौर पर बता दिया कि अगर भारतीय पायलट को किसी तरह का नुकसान पहुंचाया जाता है तो भारत की तरफ से इसके गंभीर नतीजे होंगे।

हिन्दुस्तान टाइम्स ने सुरक्षा मामलों की समिति (सीसीएस) के एक महत्वपूर्ण सदस्य, भारत और पाकिस्तान के राजनयिक, अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) कार्यालय और खुफिया अधिकारियों से दोनों पड़ोसियों के बीच इस खटास भरे रिश्ते के बारे में बात की।

ये भी पढ़ें: मिग-21 बाइसन के PAK एफ-16 को गिराने के इलेक्ट्रॉनिक सबूत हैं: MEA

नई दिल्ली और वाशिंगटन में इन मामलों से सीधे तौर पर वाकिफ सूत्रों ने बताया कि धस्माना ने पायलट को छोड़ने के लिए मुनीर से बात की। विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को उस वक्त पाकिस्तान ने पकड़ लिया जब 27 फरवरी की सुबह पाकिस्तान के एफ-16 का पीछा करते वक्त नियंत्रण रेखा के उस पास मिग-21 बाइसन दुर्घटनाग्रस्त होने के चलते नीचे आ गए थे।

सूत्रों ने बताया कि दोनों ने भारतीय सेना की तरफ से राजस्थान में तैनात किए गए 12 कम दूरी की सतह से सतह में मार करने वाली मिसाइलों के बारे में भी बात की थी।

एक तरफ जहां रॉ चीफ ने आईएसआई के अपने समकक्षीय से बात की तो वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकर अजीत डोभाल ने अमेरिकी के अपने समकक्षीय जॉन बोल्टन और अमेरिकी विदेश मंत्री से उसी दिन हॉट लाईन पर बात कर बताया कि अगर विंग कमांडर वर्धमान को नुकसान पहुंचाया जाता है तो भारत खतरनाक कदम उठाने के लिए तैयार है।डोभाल और धस्माना ने संयुक्त अरब अमीरात और सऊदी अरब में वार्ताकारों से बात कर कहा कि वह इमरान खान की सरकार पर इस बात को लेकर दबाव बनाए कि वह पायलट को बिना किसी शर्त के रिहा करे।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान को 'खुश' कर रहे हैं हवाई हमले के सबूत मांगने वाले: पीएम मोदी

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता से जब पूछा गया कि क्या डोभाल ने 27 फरवरी को जॉन बोल्टन को इस बारे में बता दिया था कि अगर भारतीय वायुसेना के पायलट को पाकिस्तान में किसी तरह का नुकसान पहुंचाया जाता है तो भारत मिसाइल हमले के लिए तैयार था और ऐसी स्थिति में 12 मिसाइल को दागने के लिए तैयार रखा गया था, इसके जवाब में किसी तरह की टिप्पणी से व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने इनकार कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:on February 27 India and Pakistan came close to firing missiles at each other