Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशडेल्टा से अलग हैं ओमिक्रॉन वैरिएंट के लक्षण? दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर ने दिया यह जवाब

डेल्टा से अलग हैं ओमिक्रॉन वैरिएंट के लक्षण? दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर ने दिया यह जवाब

एएनआई,नई दिल्लीAshutosh Ray
Fri, 03 Dec 2021 12:25 AM
डेल्टा से अलग हैं ओमिक्रॉन वैरिएंट के लक्षण? दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टर ने दिया यह जवाब

इस खबर को सुनें

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के लक्षण और अन्य चीजों को लेकर स्थिति आने वाले दिनों में धीरे-धीरे साफ हो जाएगी। दक्षिण अफ्रीका में पहले मामले की पुष्टि होने के बाद दुनियाभार में वैज्ञानिकों और डब्ल्यूएचओ की टीम रिसर्च में जुट गई है। ओमिक्रॉन के लक्षण और वैक्सीन के असर को लेकर दक्षिण अफ्रीकी चिकित्सा संघ की अध्यक्ष डॉ. एंजेलिक कोएत्जी ने कुछ अहम जानकारी शेयर की हैं।

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा 'मैं हैरान हुईं क्योंकि मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी, काफी हफ्तों से दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का कोई केस सामने नहीं आया था, ये हमारे लिए असामयिक था। मैंने मरीज़ों का टेस्ट करना शुरू किया जिनमें ऐसे लक्षण थे जो सामान्य वायरल संक्रमण के नहीं थे।

उन्होंने आगे कहा कि पिछले हफ्ते ये पुष्टि हुई कि दक्षिण अफ्रीका में एक नया वेरिएंट सामने आया है। मुझे लगता है कि ये वेरिएंट कुछ समय तक रहे, हो सकता है कि दक्षिण अफ्रीका में नहीं बल्कि अन्य देशों में क्योंकि अन्य देशों में संक्रमण की संख्या में काफी वृद्धि देखी जा रही है।

एंजेलिक ने कहा कि जहां तक इसके लक्षण की बात है तो ओमिक्रॉन से संक्रमित ज्यादातर मरीजों में थकान, शरीर में अकड़न देखने को मिला है। इसके अलावा कुछ मरीजों को काफी तेज सिरदर्द और कमजोरी की भी शिकायत है। उन्होंने कहा, लेकिन किसी भी मरीज ने सूंघने की क्षमता खत्म होने या फिर स्वाद नहीं मिलने या फिर नाक जाम होने और तेज बुखार का जिक्र नहीं किया है।

एंजेलिक ने कहा कि ऐसे में हम यही कह सकते हैं प्राथमिक स्वास्थ्य देखबल के स्तर पर डेल्टा वैरिएंट की तुलना में यह हल्का है, लेकिन अस्पताल के स्तर पर यह तस्वीर बदल सकती है, लेकिन अभी तो शुरुआती दिन हैं और अस्पतालों में ज्यादा लोगों को भर्ती नहीं कराया गया है। उऩ्होंने कहा कि अभी तक हम यही जानते हैं कि टीके इस स्तर पर बीमारी से आपकी रक्षा करेंगे क्योंकि जिन लोगों को टीका लगाया गया है, उनमें हल्के लक्षण हैं।

epaper

संबंधित खबरें