Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशओमिक्रॉन: आज आधी रात से विदेशी यात्रियों के लिए कड़े हो जाएंगे नियम, लंबी फ्लाइट के बाद एयरपोर्ट पर ही करना होगा करीब 6 घंटे तक इंतजार

ओमिक्रॉन: आज आधी रात से विदेशी यात्रियों के लिए कड़े हो जाएंगे नियम, लंबी फ्लाइट के बाद एयरपोर्ट पर ही करना होगा करीब 6 घंटे तक इंतजार

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीAshutosh Ray
Tue, 30 Nov 2021 09:16 PM
ओमिक्रॉन: आज आधी रात से विदेशी यात्रियों के लिए कड़े हो जाएंगे नियम, लंबी फ्लाइट के बाद एयरपोर्ट पर ही करना होगा करीब 6 घंटे तक इंतजार

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से बचाव के लिए अंतरराष्ट्रीय यात्रियों, खासतौर पर जोखिम वाले देशों से आने वालों के लिए आज आधी रात से नियम कड़े कर दिए जाएंगे। भारत में ओमिक्रॉन का एक भी मामला अब तक सामने नहीं आया है, हालांकि केंद्र सरकार ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से जोखिम वाले देशों से यात्रियों के आगमन के प्रथम दिन आरटी-पीसीआर जांच सुनश्चित करने तथा आठवें दिन फिर से जांच करने को कहा है।

ऐसे में यात्रियों को एयरपोर्ट पर ही घंटों तक इंतजार करना पड़ सकता है। क्योंकि आरटी-पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट आए बिना उनको एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया जाएगा। सूत्रों की माने तो आरटी-पीसीआर टेस्ट की रिपोर्ट आने में लभग 6 घंटे तक का समय लग सकता है। सूत्रों का कहना है कि आरटी-पीसीआर टेस्ट करने का जिम्मा संभालने वाली कंपनी एक घंटे में करीब 400-500 टेस्ट की पूरी कर सकती है, टेस्ट की सुविधा को बढ़ाने के प्रयास भी किए जा रहे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने मंगलवार को राज्यों को ढिलाई नहीं करने और विभिन्न हवाई अड्डों, बंदरगाहों से आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कड़ी निगरानी करने की सलाह दी। नये नियमों के तहत, आरटी-पीसीआर जांच जोखिम वाले देशों से आने वाले यात्रियों के लिए अनिवार्य हैं और जांच के नतीजे आने पर ही उन्हें हवाई अड्डा से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी। साथ ही, अन्य देशों से उड़ानों से आने वाले यात्रियों में से पांच प्रतिशत की कोविड-19 की जांच की जाएगी। 

एक उदाहरण के रूप में समझ सकते हैं कि यूरोप से दिल्ली आने वाली फ्लाईट करीब 8.30 लेती है। उड़ान से पहले एयरपोर्ट पर दो घंटे और दिल्ली पहुंचने पर करीब छह घंटे का इतंजार और अन्य जांच से गुजरने में करीब एक घंटा समय लगेगा। ऐसे में दिल्ली एयरपोर्ट से बाहर निकलने में कुल 17 घंटे तक का समय लग सकता है।

प्राधिकारी मंगलवार मध्य रात्रि से नये नियम लागू करने के लिए तैयार है। इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सलाह दी है कि जोखिम वाले देशों से आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्री आरटी-पीसीआर जांच के नतीजे आने तक हवाई अड्डे पर ही इंतजार करने के लिए तैयार रहें और वहां से अन्य स्थान के लिए पहले से संपर्क उड़ान बुक नहीं करें।  इसके अलावा, मंत्रालय ने राज्यों को पुष्टि हो चुके सभी नमूने जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए संबद्ध इन्साकॉग लैब फौरन भेजने को कहा है। 

दिल्ली और देश के अन्य हिस्सों में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों ने नये नियमों को लागू करने के लिए कमर कस ली है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा ने वहां पर एक बार में 1500 तक यात्रियों को रखने की व्यवस्था की है। इनमें जोखिम वाले देशों से आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्री भी होंगे, जो जांच रिपोर्ट आने तक रोके जाएंगे। 

उन्होंने बताया कि प्रत्येक यात्री को आरटी-पीसीआर जांच करानी होगी, जिसके लिए करीब 1700 रुपए लिए जाएंगे। जांच रिपोर्ट आने तक उनके रुकने के दौरान भोजन-पानी भी इस राशि में शामिल है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) के प्रवक्ता ने कहा कि सभी एएआई हवाई अड्डे केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का राज्य प्राधिकारों के साथ समन्वय कर लागू करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।  प्रवक्ता ने कहा कि एएआई का शीर्ष प्रबंधन भी स्थिति की निगरानी कर रहा है।  एएआई 34 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों का संचालन कर रहा है।  

बता दें कि कि 26 नवंबर को अपडेट सूची के मुताबिक जोखिम वाले देशों की सूची में यूरोपीय देश, ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, इजराइल और हांगकांग शामिल हैं।

epaper

संबंधित खबरें