ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशओडिशा विधानसभा में स्पीकर पर तब मोहन माझी ने फेंक दी थी दाल, फायरब्रांड नेता ने रातों-रात बटोरी थीं सुर्खियां

ओडिशा विधानसभा में स्पीकर पर तब मोहन माझी ने फेंक दी थी दाल, फायरब्रांड नेता ने रातों-रात बटोरी थीं सुर्खियां

Odisha New CM Mohan Majhi: माझी राज्य के फायरब्रांड नेता के तौर पर अपनी पहचान रखते हैं। ओडिशा विधानसभा में उनका प्रदर्शन बेहतर रहा है। वह चार बार के विधायक रहे हैं और आदिवासी समाज में उनकी गहरी पैठ है

ओडिशा विधानसभा में स्पीकर पर तब मोहन माझी ने फेंक दी थी दाल, फायरब्रांड नेता ने रातों-रात बटोरी थीं सुर्खियां
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 09:16 PM
ऐप पर पढ़ें

Odisha New CM Mohan Majhi:  मोहन चरण माझी ओडिशा में भाजपा के पहले और राज्य के नए मुख्यमंत्री होंगे। उन्हें भाजपा विधायक दल की बैठक में नेता चुन लिया गया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को भुवनेश्वर में  इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि केवी सिंह देव और पार्वती परिदा राज्य के उप मुख्यमंत्री बनाए जाएंगे। माझी ने 2024 का विधानसभा चुनाव क्योंझर सीट से जीता है।  पार्टी ने राजनाथ सिंह और भूपेंद्र यादव को पर्यवेक्षक बनाकर भेजा था।

माझी राज्य के फायरब्रांड नेता के तौर पर अपनी पहचान रखते हैं। ओडिशा विधानसभा में उनका प्रदर्शन बेहतर रहा है। इंडिया टुडे के मुताबिक, माझी का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से गहरा रिश्ता रहा है। संगठन में भी उनकी मजबूत पकड़ रही है। वह खनिज संपन्न केंदुझर जिले के एक मजबूत और तेजतर्रार आदिवासी नेता हैं। माझी सरल स्वभाव के नेता हैं। वह लॉ ग्रेजुएट हैं और विवादों से दूर रहने वाले नेता हैं। वह चार बार के विधायक रहे हैं और आदिवासी समाज में उनकी गहरी पैठ है। 

2023 में मोहन चरण माझी तब सुर्खियों में आ गए थे, जब उन्होंने 700 करोड़ रुपये के कथित मिड-डे मील घोटाला उजागर करने के लिए अनूठे तरीके से विधान सभा में विरोध किया था। माझी ने तब एक कटोरी दाल (बिना उबली दाल) स्पीकर की तरफ उछालकर फेंक दिया था। इस हरकत के कारण विधानसभा अध्यक्ष ने उन्हें और उनके साथी विधायक मुकेश महालिंग को सस्पेंड कर दिया गया था।

हालांकि, बाद में माझी और उनके साथी मुकेश महालिंग ने इस बात से इनकार किया था कि उन्होंने दाल फेंकी थी। उन्होंने इस बारे में  सफाई दी थी कि उन्होंने अनूठे तरीके से विरोध करते हुए दाल सिर्फ स्पीकर के आसन के सामने पेश किया था।  बता दें कि 1997-2000 तक सरपंच रहने वाले माझी ने ग्रामीण स्तर से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की है। वह पहली बार 2000 में क्योंझर से राज्य विधानसभा के लिए चुने गए थे।

माझी नवीन पटनायक से पदभार संभालेंगे, जिन्होंने पिछले 24 साल से लगातार राज्य की बागडोर संभाली है। हालिया विधानसभा चुनावों में 147 सदस्यों वाली विधानसभा में भाजपा ने 78 सीटें जीत कर स्पष्ट बहुमत हासिल किया है। माझी बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उस शपथ समारोह में शामिल होंगे।