ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशगुपचुप तरीके से चेन्नई क्यों गए NSA अजित डोभाल, राज्यपाल से मिले और फिर मुंबई रवाना?

गुपचुप तरीके से चेन्नई क्यों गए NSA अजित डोभाल, राज्यपाल से मिले और फिर मुंबई रवाना?

Ajit Doval: रिपोर्ट के मुताबिक, वह उसी दिन दोबारा चेन्नई लौटे और शनिवार रात को ही मुंबई के लिए रवाना हो गए। खबर है कि सरकार की ओर से डोभाल के दौरे की आधिकारिक जानकारी साझा नहीं की गई थी।

गुपचुप तरीके से चेन्नई क्यों गए NSA अजित डोभाल, राज्यपाल से मिले और फिर मुंबई रवाना?
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 21 Nov 2023 08:23 AM
ऐप पर पढ़ें

लंबित बिलों के मामले में सवालों से घिरे तमिलनाडु के राज्यपाल आरएन रवि ने हाल ही में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार यानी NSA अजित डोभाल से मुलाकात की है। खबर है कि डोभाल गुपचुप यात्रा पर दक्षिण भारतीय राज्य पहुंचे थे। हालांकि, इसे लेकर आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है। खास बात है कि इसी बीच रवि भी दिल्ली पहुंचे थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, डोभाल शुक्रवार रात तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई पहुंचे थे। कहा जा रहा है कि इस दौरान उन्होंने राज्यपाल रवि से राजभवन में मुलाकात भी की थी। इसके बाद वह अगली ही सुबह कलपक्कम के लिए निकल गए। कलपक्कम में ही इंदिरा गांधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च यानी IGCAR स्थित है।

रिपोर्ट के मुताबिक, वह उसी दिन दोबारा चेन्नई लौटे और शनिवार रात को ही मुंबई के लिए रवाना हो गए। खबर है कि सरकार की ओर से डोभाल के दौरे की आधिकारिक जानकारी साझा नहीं की गई थी।

दिल्ली पहुंचे राज्यपाल
अब इस हलचल के बीच रविवार रात ही राज्यपाल रवि भी राजधानी दिल्ली पहुंच गए थे। वह सोमवार दोपहर को वापस चेन्नई लौट आए। खास बात है कि राज्यपाल का दिल्ली दौरा ऐसे समय पर हुआ है, जब राज्य सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल हुई है और उसपर सुनवाई जारी है।

सुप्रीम कोर्ट ने उठाए सवाल
पीटीआई भाषा के अनुसार, उच्चतम न्यायालय ने राज्य विधानसभा द्वारा पारित कई विधेयकों को मंजूरी देने में तमिलनाडु के राज्यपाल आर एन रवि की ओर से देरी किए जाने पर सोमवार को सवाल उठाया और पूछा कि राज्यपालों को पक्षकारों के अपनी शिकायतें लेकर शीर्ष अदालत के पास जाने तक इंतजार क्यों करना चाहिए। प्रधान न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला और न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने जनवरी 2020 से विधेयक लंबित होने का जिक्र किया और कड़े सवाल करते हुए पूछा कि राज्यपाल तीन साल से क्या कर रहे हैं।