DA Image
20 जनवरी, 2021|12:40|IST

अगली स्टोरी

पड़ोसियों का संकटमोचक भारत सात समुंदर पार भी भेजेगा मदद? इस देश ने PM मोदी से मांगी वैक्सीन

pm narendra modi at the inaugural function of grand challenges annual meeting 2020 says the future w

कोरोना के इस संकट काल में भारत अपने पड़ोसी देशों को वैक्सीन मुहैया कराकर न सिर्फ पड़ोसी धर्म निभा रहा है, बल्कि मानव धर्म की मिसाल भी कायम कर रहा है। भारत सरकार ने आज से भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार और सेशेल्स को अनुदान सहायता के तहत (गिफ्ट के तौर पर) कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति शुरू कर दी है। भारत के इसी सहयोग की भावना को देखते हुए अब सात समूद्र पार के देश भी वैक्सीन के लिए मदद की गुहार लगा रहे हैं। कैरिबियाई देश डोमिनिकन गणराज्य के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट स्केरिट ने पीएम नरेंद्र मोदी को खत लिख वैक्सीन के लिए मदद की अपील की है। उन्होंने पीएम मोदी को पत्र लिखकर वैश्विक महामारी से निपटने के लिए कोवैक्सीन की 70,000 खुराक मांगी है।

भारत का डोमिनिकन रिपब्लिक के साथ घनिष्ठ संबंध हैं। इस देश ने 2020 तक दो वर्षों के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के एक गैर-स्थायी सदस्य के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान द्विपक्षीय संबंधों के लिए अपनी प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया था। ये छोटा कैरेबियन द्वीप राष्ट्र भारत के समर्थन में तब आया था जब पाकिस्तान अपने सहयोगी चीन की मदद से कश्मीर पर भारत को निशाना बना रहा था। साथ ही अफगानिस्तान में काम कर रहे निर्दोष भारतीयों को UNSC के 1267 के प्रस्ताव के तहत वैश्विक आतंकवादी के रूप में सूचीबद्ध करने की कोशिश कर रहा था।

पीएम मोदी पहले ही ट्वीट कर चुके हैं कि भारत वैश्विक समुदाय की स्वास्थ्य देखभाल की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि भारत, दुनिया की फार्मेसी, महामारी की चुनौती को दूर करने के लिए टीके वितरित करेगा।

अपने पत्र में, पीएम स्केरिट ने कहा: “मैं कोविड-19 के लिए एक टीका प्राप्त करने में हमारे लोगों द्वारा झेली की गई भारी चुनौती पर आपका ध्यान आकर्षित करता हूं। दुनिया के विकासशील देशों को अपनी आधी से अधिक खुराक प्रदान करने के लिए ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका द्वारा प्रतिज्ञा के बावजूद हम बहुत लंबे समय से टीका नहीं पा सके हैं। हम एक विकासशील छोटा सा द्वीप देश हैं, और बड़े देशों के साथ टीकों की अधिक मांग और इसके लिए भुगतान करने के में असमर्थ हैं। "

उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को याद दिलाया कि उनका देश अक्सर भारत से सहायता प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त करता रहा है। “2017 में, तूफान मारिया के बाद में, भारत सरकार ने इस देश को तत्काल राहत के लिए 100,000 अमेरिकी डॉलर प्रदान किया था। साथ ही आवश्यक बुनियादी ढांचे के पुनर्निर्माण के लिए 1 मिलियन अमरीकी डालर और प्रदान किया था। 2016 में, भारत ने सहायता योजना में अनुदान के एक भाग के रूप में डोमिनिकन के लिए दवा भी प्रदान की थे। हमें उम्मीद है कि अब हम फिर से आपकी उदारता पर भरोसा कर सकते है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Not only neighbors India will send help to the other countries this country asked for vaccine from pm Modi