ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशदिल्ली हिंसा पर अरविंद केजरीवाल की मांग- पुलिस से नहीं संभल रहे हालात, तुरंत सेना बुलाई जाए

दिल्ली हिंसा पर अरविंद केजरीवाल की मांग- पुलिस से नहीं संभल रहे हालात, तुरंत सेना बुलाई जाए

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली हिंसा मामले पर अरविंद केजरीवाल ने सेना की तैनाती की मांग की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा पर ट्वीट कर गृह मंत्रालय से तुरंत...

Arvind Kejriwal
1/ 3Arvind Kejriwal
North East Delhi Violence
2/ 3North East Delhi Violence
Breaking news
3/ 3Breaking news
arvind kejriwal
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 26 Feb 2020 11:38 AM
ऐप पर पढ़ें

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली हिंसा मामले पर अरविंद केजरीवाल ने सेना की तैनाती की मांग की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा पर ट्वीट कर गृह मंत्रालय से तुरंत सेना की मांग की है और कहा है कि हालात बेहद खराब हैं और दिल्ली पुलिस इस पर काबू पाने में असमर्थ रही है। इसके लिए अरविंद केजरीवाल गृह मंत्रालय को एक पत्र भी लिखने वाले हैं। बता दें कि दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 20 हो गई है।

बुधवार को अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, 'मैं पूरी रात लोगों के संपर्क में रहा हूं। स्थिति काफी चिंताजनक है। पुलिस अपने सभी प्रयासों के बावजूद हालात को नियंत्रित करने और लोगों का आत्मविश्वास बढ़ाने में असमर्थ रही है। सेना को तुरंत बुलाया जाए और बाकी प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगाया जाए। इसके लिए मैं गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र लिख रहा हूं।'

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन करने वालों और विरोध करने वालों के बीच हिंसक झड़प में अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा में घायलों की संख्या 250 से ज्यादा है, इनमें करीब 56 पुलिसवाले हैं। रविवार को भड़की हिंसा मंगलवार को भी जारी रहा। नॉर्थ दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर समेत कई हिंसाग्रस्त इलाकों में माहौल अब भी तनावपूर्ण है। हालांकि, प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी है। 

वहीं, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से हिंसा मामले पर जवाब मांगा है। न्यायालय ने यह बताने के लिए कहा है कि जिन लोगों ने भड़काऊ भाषण दिया उनके खिलाफ क्या कार्रवाई हुई। साथ ही दिल्ली पुलिस के किसी बड़े अधिकारी को 12: 30 बजे तक पेश होकर जवाब देने के लिए कहा है। इससे पहले जस्टिस एस मुरलीधर ने आधी रात को भी मामले की सुनवाई करते हुए हिंसा में घायलों को बेहतर इलाज के लिए बड़े अस्पताल में भेजने का आदेश दिया था।