ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशबेलगावी में महाराष्ट्र के 3 मंत्री और 1 सांसद के लिए नो एंट्री, कर्नाटक स्थापना दिवस से पहले क्यों लगा बैन

बेलगावी में महाराष्ट्र के 3 मंत्री और 1 सांसद के लिए नो एंट्री, कर्नाटक स्थापना दिवस से पहले क्यों लगा बैन

बेलगावी के कलेक्टर ने महाराष्ट्र के तीन मंत्री और एक सांसद की एंट्री बैन करने का आदेश जारी किया है। बेलगाम में एमईएस संगठन ने पहले ही 1 नवंबर को ब्लैक डे मनाने की घोषणा कर दी है।

बेलगावी में महाराष्ट्र के 3 मंत्री और 1 सांसद के लिए नो एंट्री, कर्नाटक स्थापना दिवस से पहले क्यों लगा बैन
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,बेलगावीTue, 31 Oct 2023 10:05 PM
ऐप पर पढ़ें

कन्नड़ राज्योत्सव के दिन बेलगावी में ब्लैक डे मनाने के लिए महाराष्ट्र के तीन मंत्रियों और एक सांसद की एंट्री बैन कर दी गई है। इस संबंध में जिला कलेक्टर नितेश पाटिला ने महाराष्ट्र के चार व्यक्तियों की बेलगावी में प्रवेश रोकने का आदेश जारी किया है। जिन लोगों की एंट्री बैन की गई है उनमें महाराष्ट्र के मंत्री शंभूराज देसाई, चंद्रकांत दादा पाटिल, दीपक केसरकर और सांसद दरियाशैला माने शामिल हैं। बेलगावी में एमईएस संगठन ने पहले ही 1 नवंबर को ब्लैक डे मनाने की घोषणा कर दी है। इस कार्यक्रम में तीन मंत्रियों और सांसद समेत कई लोगों को आमंत्रित किया गया था। 

वहीं बेलगावी जिला प्रशासन ने कन्नड़ राज्योत्सव के दिन ब्लैक डे मनाने और सार्वजनिक भ्रम और अप्रिय माहौल को रोकने के लिए सख्त कदम उठाए हैं। चूंकि अतीत में इसी तरह के ब्लैक डे मनाने के मामले सामने आए हैं और हिंसा की घटनाएं हुई हैं, इसलिए सावधानी बरती जा रही है।

एमईएस संस्था द्वारा मनाए जा रहे ब्वैक डे में महाराष्ट्र के मंत्री और सांसद हिस्सा ले रहे हैं। ऐसे में संभावना है कि प्रमुख व्यक्ति कोई ऐसा भाषण दे सकते हैं, जिससे भाषाई विवाद बढ़ जाएगा। उनके भाषणों से इससे कर्नाटक के मराठी निवासियों के उग्र होने की संभावना है। साथ ही इससे सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान भी हो सकता है। इस पृष्ठभूमि में, जिला कलेक्टर नितेश पाटिल ने कहा कि जनता की शांति बनाए रखने के लिए एहतियाती उपाय के रूप में, 31 अक्टूबर को सुबह 6 बजे से 2 नवंबर को शाम 6 बजे तक बेलगावी शहर और जिले की सीमाओं में इनके प्रवेश नहीं करने का आदेश दिया गया है।

महाराष्ट्र और कर्नाटक राज्यों के बीच सीमा विवाद गहराया हुआ है। मामला अभी भी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। ऐसे में कलेक्टर के आदेश में स्पष्ट है कि भाषा के मुद्दे पर सार्वजनिक रूप से बोलने में व्यवधान आने की संभावना अधिक है।

इस बीच एमईएस ने बुधवार को बेलगावी शहर समेत जिले के कई हिस्सों में ब्लैक डे मनाने की तैयारी की है। कन्नड़ समर्थक संगठन भी इसका विरोध कर सकते हैं। इसके लिए पुलिस ने कानून-व्यवस्था के मद्देनजर संवेदनशील जगहों पर सुरक्षा भी बढ़ा दी है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें