DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सली बढ़ती उम्र की वजह से समर्पण करते हैं, आत्मसमर्पण नीति की समीक्षा की जाए:भूपेश बघेल

narendra modi bhupesh baghel  pmoindia twitter 15 june  2019

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने माओवादियों द्वारा बढ़ती उम्र में पहुंचने पर सजा से बचने के लिए हथियार डालने की प्रवृत्ति का उल्लेख करते हुए कहा है कि ऐसे वामपंथी उग्रवादियों की 'आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास की नीति' की भी समीक्षा करने की जरूरत है। बघेल शनिवार को यहा नीति आयोग की संचालन परिषद की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने की। बैठक में नीति आयोग के उपाध्यक्ष, केन्द्रीय मंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्री उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने नक्सल आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति में बदलाव की जरूरत पर बल देते हुए कहा, 'कई बड़े नक्सली जो केन्द्रीय कमेटी स्तर के हैं, वे 25-35 वर्षों तक हिंसक गतिविधियों में लिप्त रहते हैं और बीमारियों से ग्रसित होने या बढ़ती उम्र के कारण आत्मसमर्पण करते हैं। वर्तमान नीति के कारण वे अंततः सजा पाने से बच निकलते हैं।' बघेल ने कहा कि देश में माओवादी उग्रवाद से निपटने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर रणनीति तथा समन्वित नीति बने। प्रभावित राज्य सरकारों की उसमें समुचित भूमिका हो ताकि ऐसी हिंसा के खिलाफ प्रदेश एकजुट होकर समन्वित कार्यवाही करें।

बघेल ने कहा कि माओवाद हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में समुचित विकास कार्यों व रोजगार की आवश्यकता अनुरूप पर्याप्त आर्थिक सहायता से ही हम स्थानीय बेरोजगार युवाओं को भ्रमित होने से बचा सकेंगे। बघेल ने इन क्षेत्रों में सौर उर्जा के माध्यम से पानी के पम्प की व्यवस्था, बिगड़े वन क्षेत्रों में वाणिज्यिक रूप से सौर उर्जा से बिजली उत्पादन की अनुमति, लघुवनोपज पर आधारित उद्योगों की स्थापना वन भूमि पर करने की छूट, सौर पम्पों के माध्यम से छोटी सिचाई योजनाओं की स्थापना के लिए वन भूमि में छूट, आदिवासी बेरोजगार युवकों को लघुवनोपज एवं खाद्य प्रसंस्करण के लिए अनुदान आदि के लिए केन्द्र सरकार से 100 प्रतिशत वित्त पोषण एवं अनुदान की मांग की।

मुख्यमंत्री के साथ बैठक में उनके प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने दावा किया देश में किसानों की आय दोगुना करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए छत्तीसगढ़ में हाल ही में लागू 'नरवा (नाले), गरवा (पशुधन), घुरवा (कम्पोस्ट), बाड़ी (बागवानी) योजनाओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Niti Aayog Meet Chhattisgarh CM Bhupesh Baghel Seek Review of Naxals surrender in Old Age