DA Image
18 अक्तूबर, 2020|6:34|IST

अगली स्टोरी

दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं-ये सुझाव देने की हिम्मत भी कैसे हुई

asha devi

निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस में चारों दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी होने के बाद उनकी फांसी की सजा को माफ करने को लेकर भी आवाजें उठने लगी है। इसमें वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने भी निर्भया की मां से अपील की है कि वह दोषियों को माफ कर दें। इस पर निर्भया की मां आशा देवी ने कहा है कि इंदिरा जयसिंह कौन है जो मुझे सुझाव दे रही हैं? पूरा देश चाहता है दोषियों को फांसी की सजा दी जाए। सिर्फ उनके जैसे जैसे लोगों की वजह से बलात्कार पीड़ितों के साथ न्याय नहीं होता है।

आशा देवी ने कहा कि विश्वास नहीं हो सकता है कि इंदिरा जयसिंह ने इस तरह का सुझाव देने की हिम्मत भी कैसे की। मैं सुप्रीम कोर्ट में कई कई बार उनसे मिली हूं। उन्होंने कभी मेरे बारे में नहीं सोचा और आज वह दोषियों के लिए कैसे बोल रही हैं। ऐसे लोग की रोजी रोटी बलात्कारियों का समर्थन करके चलती है, इसलिए बलात्कार की घटनाएं बंद नहीं होती हैं।

वकील जयसिंह ने ट्वीट कर यह अपील की है। जब दिल्ली की एक अदालत ने चार दोषियों की फांसी की तारीख को टाल दिया, तब निर्भया की मां आशा देवी ने निराशा जाहिर की और उसके तुरंत बाद वकील इंदिरा जयसिंह ने यह अपील की। उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा- जबकि मैं आशा देवी के दर्द से पूरी तरह वाकिफ हूं, मैं आग्रह करती हूं कि वे सोनिया गांधी के उदाहरण को फॉलो करें, जिन्होंने नलिनी को माफ कर दिया और कहा कि वह उसके लिए मौत की सजा नहीं चाहती। हम आपके साथ हैं लेकिन मौत की सजा के खिलाफ हैं।'

गौरतलब है कि नलिनी को 1991 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के माले में गिरफ्तार किया गया था और उसे दोषी ठहराया गया था।

इससे पहले शुक्रवार को आशा देवी ने कोर्ट और सरकार पर गुस्सा जाहिर करते हुए कहा था, 'साल 2012 में जो लोग रैली में भाग लेने गए थे और महिलाओं की सुरक्षा के लिए नारे लगाए थे और वही आज अपनी राजनीतिक लाभ के लिए मेरी बेटी की मौत के साथ खेल रहे हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक लाभ के लिए फांसी की सजा पर रोक लगा दी है। '

बता दें कि इससे पहले निर्भया के चारों दोषियों को 22 फरवरी को सुबह सात बजे फांसी पर लटकाया जाना था, मगर अब कोर्ट ने अपने फैसले में बदलाव किया है, जिसके मुताबिक चारों दोषियों को एक फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nirbhaya mother Asha Devi on senior lawyer Indira Jaising statement forgive convicts says Can not believe how even dared to suggest such this