DA Image
21 फरवरी, 2020|9:45|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्भया मामला: दया याचिका के साथ अपनी निजी डायरी भी राष्ट्रपति को देना चाहता है विनय

nirbhaya case

निर्भया गैंगरेप मामले में दोषी विनय शर्मा को अन्य तीन दोषियों के साथ 1 फरवरी को फांसी पर लटकाया जाना है।  विनय ने शुक्रवार दिल्ली की अदालत से तिहाड़ जेल अधिकारियों को उनकी 170 पन्नों की निजी डायरी को जल्द सौंपने के आदेश देने के लिए कहा। शर्मा ने अदालत से कहा कि वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपनी दया याचिका के साथ अपनी निजी डायरी भी सौंपना चाहता है। 

बता दें कि इससे पहले पिछले सप्ताह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अन्य दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका महज 4 दिनों के भीतर खारिज कर दी थी।  ये दया याचिका के मामलों में अब तक का सबसे तेज फैसला था। लेकिन इस याचिका के कारण अदालत को दोषियों के नई तारीख के साथ एक नया डेथ वारंट जारी करना पड़ा। चारों को जो फांसी 22 जनवरी को दी जानी थी उसे अब 1 फरवरी के दिए जाने का फैसला किया गया।

विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने कहा कि दया याचिका के साथ तैयाक थे लेकिन 22 जनवरी को जब उनकी उससे बात हुई तो उसने दया याचिका के साथ अपनी निजी डायरी भी राष्ट्रपति को सौंपने का आग्रह किया। एपी सिंह ने कहा कि उन्होंने जेल प्रशासन को इसके लिए आग्रह किया है लेकिन अभी कोई जवाब नहीं आया है।

तिहाड़ जेल प्रशासन ने 16 दिसंबर 2012 को हुए दिल दहला देने वाले निर्भया गैंगरेप मामले के चार दोषियों को 1 फरवरी को मौत की सजा देने से पहले उनकी अंतिम इच्छा को सूचीबद्ध करने के लिए कहा है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि पिछले सप्ताह तिहाड़ प्रशासन द्वारा चारों से उनकी आखिरी इच्छा पूछी गई थी और चार में से किसी ने भी अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक, राजकुमार ने पुष्टि की कि उन्होंने लिखित रूप से चारों से कहा है कि इससे पहले कि वे फांसी पर चढ़ जाएं वे अपनी अंतिम इच्छा को सूचीबद्ध करें। हम उनके जवाब का इंतजार कर रहे हैं।  राजकुमार ने कहा, केवल एक बार वे हमें बताते दें कि उनकी अंतिम इच्छा क्या है तो तिहाड़ के अधिकारी ये फैसला लें कि क्या इच्छा पूरी हो सकती है या नहीं। हर इच्छा पूरी नहीं हो सकती। एक बार लिखित रूप में हमारे पास उनका जवाब वापस आने पर प्रशासन निर्णय लेगा।

अधिकारियों ने बताया कि चारों दोषियों को ये भी कहा गया है कि वे किसी का भी नाम लें जिससे वे एक अंतिम बार मिलना चाहते हैं या किसी भी संपत्ति या सामान को किसी को देना चाहते हैं तो बता दें।

बता दें कि निर्भया गैंगरेप केस में मौत की सजा पाये दोषियों को फांसी दिये जाने के लिये सात दिन की समय सीमा निर्धारित करने का अनुरोध करते हुये केन्द्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर की। दिसंबर, 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार और हत्या मामले में दोषियों द्वारा पुनर्विचार याचिका, सुधारात्मक याचिका और दया याचिकाएं दायर करने की वजह से मौत की सजा के फैसले पर अमल में विलंब के मद्देनजर गृह मंत्रालय की यह याचिका काफी महत्वपूर्ण है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nirbhaya case Vinay wants to give his personal diary to the President along with mercy petition