DA Image
23 फरवरी, 2020|1:10|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निर्भया केस में नया मोड़, अब दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका, हाईकोर्ट के फैसले को दी चुनौती

 nirbhaya case convict pawan kumar gupta challenged hc order dismissing his claim of being a juvenil

निर्भया केस के मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है। मामले के दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। दरअसल हाई कोर्ट ने उसके नाबालिग होने की दलील को खारिज कर दिया था। इधर शुक्रवार को ही निर्भया गैंगरेप मामले में दिल्ली की अदालत ने सभी चारों दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी किया।

इस नए डेथ वारंट के अनुसार अब 22 जनवरी की जगह सभी दोषियों को एक फरवरी सुबह छह बजे फांसी की सजा दी जाएगी। आपको बता दें कि शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका खारिज कर दी। इसके बाद निर्भया की मां ने कहा कि जो मुजरिम चाहते हैं वही हो रहा है। तारीख पे तारीख...तारीख पे तारीख...हमारा सिस्टम ऐसा है कि यहां दोषी की सुनी जाती है। 

बता दें कि दिल्ली की एक अदालत ने सात जनवरी को मृत्यु वारंट जारी करते हुए कहा था कि चारों दोषियों - मुकेश सिंह(32), विनय शर्मा (26), अक्षय कुमार सिंह (31) और पवन गुप्ता (25) को 22 जनवरी की सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी। हालांकि दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट में कहा था कि दोषियों को फांसी नहीं दी जा सकती है क्योंकि दोषी मुकेश ने दया याचिका दायर कर रखी है। 

उल्लेखनीय है कि 16 दिसंबर 2012 को हुई इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। छह आरोपियों ने 23 वर्षीय महिला के साथ चलती बस में मिलकर दुष्कर्म किया था और उसकी बुरी तरफ पिटाई की थी। बाद में छात्रा की मौत हो गई थी। सभी छह आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। आरोपियों में से एक नाबालिग था, इसलिए उसे किशोर अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया गया। वहीं अन्य आरोपी राम सिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। 

यह भी पढ़ें- निर्भया केस: दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट पर बोलीं निर्भया की मां- तारीख पे तारीख मिल रही

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nirbhaya Case convict Pawan Kumar Gupta challenged HC order dismissing his claim of being a juvenile at the time of the offence