DA Image
1 जून, 2020|7:42|IST

अगली स्टोरी

विदेशी धरती पर पहली बार भारतीय एजेंसी, काबुल हमले की जांच करेगी एनआईए

national investigation agency  file pic

अमेरिका के एफबीआई की तर्ज पर पहली बार भारतीय जांच एजेंसी विदेशी धरती पर हुए आतंकी हमले की पड़ताल के लिए कदम रखने जा रही है। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के एक गुरुद्वारा पर 25 मार्च को हुए आतंकी हमले की राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) जांच करेगी। एनआईए ने गुरुवार को इस हमले को लेकर केस दर्ज किया है। चार बंदूकधारियों की ओर से किए गए इस हमले में एक भारतीय नागरिक के साथ 27 सिख श्रद्धालु मारे गए थे।

नरेन्द्र मोदी की सरकार ने पिछले साल एनआईए एक्ट मे संशोधन कर आतंकवाद से संबंधित मामले जो देश या फिर देश के हित से जुड़े विदेशों में हुए हों, उन्हें जांच करने का अधिकार दिया था। इसके साथ ही, साइबर क्राइम और मानव तस्करी की जांच का भी एनआई को अधिकार दिया गया। यह संशोधन 2 अगस्त 2019 को अमल में आ गया था।

अमेरिका के फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफआईआई) को ऐसा ही अधिकार है और वे 26/11 मुंबई आतंकी हमले के दौरान जांच में भी आए थे, जिस हमले में 6 अमेरिकी नागरिक की मौत हो गई थी।

ये भी पढ़ें: अफगान राष्ट्रपति ने खाई इस्लामिक स्टेट के गढ़ को 'ध्वस्त' करने की कसम

इस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट से जुड़े संगठन ने ली थी। अफगान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने हमले की निंदा करते हुए कहा कि धार्मिक स्थलों पर हमले से दुश्मनों की कमजोरी का पता चलता है, धार्मिक स्थलों को निशाना नहीं बनाना चाहिए।

काबुल हमले के बाद सिख परिवारों ने पीड़ितों के अवशेषों का अंतिम संस्कार किया और सरकार से हमलों की जांच करने का आग्रह किया। कुछ सिख नागरिकों ने कहा कि वे अफगानिस्तान में रहने से थक गए हैं। मारे गए एक व्यक्ति के परिवार के सदस्य अंधार सिंह ने कहा कि कौन सी धार्मिक पुस्तक आपको मस्जिद या धर्मशाला पर हमला करने के लिए कहती है। वह किस धर्म में होता है?

शुरुआती जांच में पता चला था कि काबुल हमले का एक हमलावर मोहसिन उर्प अबु खालिद अल-हिंदी केरल के कासरगौड जिले रहनेवाला है और उसने छह साल पहले भारत छोड़ जेहाद को ज्वाइन कर लिया था। अन्य ऐसे लोग जिन्होंने इस्लामिक स्टेट ज्वाइन करने के लिए केरल छोड़ा है वे सभी भी जांच के दायरे में हैं।

गौरतलब है कि सिख पहले भी अफगानिस्तान में इस्लामी आतंकवादियों के हमलों का निशाना बन चुके हैं। इससे पहले जुलाई 2018 में, ISIS के आतंकवादियों ने पूर्वी शहर जलालाबाद में सिखों और हिंदुओं की सभा पर हमला किया था, जिसमें 19 लोग मारे गए और 20 घायल हुए थे।

ये भी पढ़ें: अफगान राष्ट्रपति ने मोदी से की बात, लेकिन पाक PM का नहीं उठाया फोन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:NIA to investigate Kabul attack first time Indian indian agency to investigate on foreign soil