ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशगजवा-ए-हिंद आतंकी मॉड्यूल मामले में NIA का ऐक्शन, कई राज्यों में छापेमारी; आपत्तिजनक डॉक्यूमेंट जब्त

गजवा-ए-हिंद आतंकी मॉड्यूल मामले में NIA का ऐक्शन, कई राज्यों में छापेमारी; आपत्तिजनक डॉक्यूमेंट जब्त

एनआईए के प्रवक्ता ने रविवार को बताया कि मध्य प्रदेश के देवास जिले, गुजरात के गिर सोमनाथ जिले, उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले और केरल के कोझिकोड जिले में संदिग्धों के परिसरों पर छापे मारे गए।

गजवा-ए-हिंद आतंकी मॉड्यूल मामले में NIA का ऐक्शन, कई राज्यों में छापेमारी; आपत्तिजनक डॉक्यूमेंट जब्त
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीSun, 26 Nov 2023 11:35 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पाकिस्तान समर्थित गजवा-ए-हिंद आतंकी मॉड्यूल मामले में रविवार को कई राज्यों में छापेमारी की। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। एनआईए के प्रवक्ता ने बताया कि मध्य प्रदेश के देवास जिले, गुजरात के गिर सोमनाथ जिले, उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले और केरल के कोझिकोड जिले में संदिग्धों के परिसरों पर छापे मारे गए। उन्होंने बताया कि छापेमारी में आपत्तिजनक दस्तावेज और डिजिटल उपकरण जब्त किए गए। अधिकारी ने कहा कि छापेमारी से संदिग्धों के पाकिस्तान में मौजूद उनके आकाओं के साथ संबंधों का भी पता चला है।

NIA के प्रवक्ता ने कहा, 'ये संदिग्ध अपने पाकिस्तानी आकाओं के संपर्क में थे और गजवा-ए-हिंद के कट्टरपंथी भारत विरोधी विचार का प्रचार करने में शामिल थे।' अधिकारी ने कहा कि यह मामला पिछले साल 14 जुलाई को बिहार में फुलवारीशरीफ पुलिस की ओर से मरगूब अहमद दानिश उर्फ ताहिर की गिरफ्तारी के बाद दर्ज किया गया था, जो जैन नाम के एक पाकिस्तानी नागरिक की ओर से बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप 'गजवा-ए-हिंद' से जुड़ा था।

ग्रुप से जुड़े थे पाकिस्तान, बांग्लादेश समेत यहां के लोग
अधिकारी ने कहा कि आरोपी ताहिर ने भारत के साथ-साथ पाकिस्तान, बांग्लादेश और यमन सहित अन्य देशों के कई लोगों को समूह में जोड़ा था। प्रवक्ता ने कहा, 'भारतीय क्षेत्र में गजवा-ए-हिंद की स्थापना के नाम पर प्रभावशाली युवाओं को कट्टरपंथी बनाने का प्रयास किया जा रहा था। इस उद्देश्य से समूह को पाकिस्तान में मौजूद संदिग्धों की ओर से संचालित किया जा रहा था।' रिपोर्ट के मुताबिक, एनआईए की रेड के दौरान मोबाइल फोन और सिम कार्ड के अलावा कई दस्तावेज भी जब्त किए, जो RC-32/2022/NIA-DLI मामले से जुड़े हैं। इस केस को आमतौर पर गजवा-ए-हिंद, पटना (बिहार) के तौर पर जाना जाता है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें