ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशरामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में एक और आरोपी गिरफ्तार, लश्कर से कनेक्शन

रामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में एक और आरोपी गिरफ्तार, लश्कर से कनेक्शन

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि जिन 11 संदिग्धों के ठिकानों पर मंगलवार को छापे मारे गए, उनमें 2012 में बेंगलुरु और हुबली जिलों में लश्कर-ए-तैयबा साजिश मामले में दोषी ठहराए गए व्यक्ति शामिल हैं।

रामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में एक और आरोपी गिरफ्तार, लश्कर से कनेक्शन
nia gets big success in rameswaram cafe blast case main conspirator arrested
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 24 May 2024 08:08 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने रामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है, जो इससे पहले लश्कर-ए-तैयबा आतंकी साजिश मामले में दोषी ठहराया जा चुका था। इस शख्स का नाम शोएब अहमद मिर्जा उर्फ ​​छोटू है जो 35 साल का है। वह कर्नाटक के हुबली का रहने वाला है। छोटू इस मामले में गिरफ्तार होने वाला 5वां आरोपी है। एनआईए की जांच में पाया गया कि मिर्जा पहले लश्कर-ए-तैयबा बेंगलुरु साजिश मामले में दोषी ठहराया गया था। जेल से रिहा होने के बाद वह एक नई साजिश में शामिल हो गया।

रामेश्वरम कैफे विस्फोट मामले में यह गिरफ्तारी ऐसे वक्त हुई जब NIA ने बीते मंगलवार को कई राज्यों में छापे मारे थे। पूरी साजिश को उजागर करने और विदेश से आरोपियों को दिशा-निर्देश देने में शामिल अन्य साजिशकर्ताओं की पहचान को लेकर यह कार्रवाई हुई। आधिकारिक बयान में कहा गया कि एनआईए टीमों ने मामले के संबंध में कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में 11 स्थानों पर छापे मारे। मामले में 11 संदिग्धों से जुड़े परिसरों में व्यापक तलाशी ली गई। कर्नाटक के बेंगलुरु में ब्रुकफील्ड के आईटीपीएल रोड पर स्थित कैफे में IED ब्लास्ट में कई ग्राहक और कर्मचारी घायल हो गए थे।

NIA ने 11 संदिग्धों के ठिकानों पर मारे थे छापे 
एनआईए ने कहा कि जिन 11 संदिग्धों के ठिकानों पर मंगलवार को छापे मारे गए, उनमें 2012 में बेंगलुरु और हुबली जिलों में लश्कर-ए-तैयबा साजिश मामले में दोषी ठहराए गए व्यक्ति शामिल हैं। 3 मार्च को जांच का जिम्मा संभालने वाली NIA ने 12 अप्रैल को दो मुख्य आरोपियों- सरगना अदबुल मतीन अहमद ताहा और मुसाविर हुसैन शाजिब (हमले का अपराधी) को कोलकाता से गिरफ्तार किया था, जहां वे पहचान बदलकर रह रहे थे। दोनों आरोपी कर्नाटक के शिवमोगा जिले के तीर्थहल्ली के रहने वाले हैं। दोनों शिवमोगा स्थित इस्लामिक स्टेट मॉड्यूल के सदस्य हैं। उन्होंने बताया कि इसी मॉड्यूल के सदस्य शारिक ने 19 नवंबर, 2022 को मंगलुरु में विस्फोट किया था। जिन जगहों पर छापेमारी की गई उनमें बेंगलुरु का कुमारस्वामी लेआउट और बनशंकरी भी शामिल हैं।
(एजेंसी इनपुट के साथ)