DA Image
23 जनवरी, 2020|2:25|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शरद पवार ने जो 41 वर्ष पहले किया था भतीजे अजित ने उसे ही दोहरा दिया

महाराष्ट्र में चल रही राजनीतिक उठापटक का पटाक्षेप शनिवार को हो गया है। एनसीपी विधायक दल के नेता अजित पवार ने सबको चौंकाते हुए भाजपा को समर्थन दे दिया और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली।

ajit-pawar-with-sharad-pawar

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के बाद से चल रही राजनीतिक उठापटक का पटाक्षेप शनिवार को हो गया है। शनिवार सुबह सबको चौंकाते हुए एनसीपी विधायक दल के नेता अजित पवार ने भाजपा को समर्थन दे दिया और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। अचानक बदली सियासी चाल ने सबको चकित कर दिया। खुद एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने इससे अनभिज्ञता जाहिर की। घटनाक्रम पर शरद पवार की बेटी और सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि पार्टी और परिवार दोनों टूट गए। चुनावी नतीजों के एक माह बाद महाराष्ट्र के किंगमेकर बनकर उभरे अजित पवार ने 1978 का इतिहास दोहरा दिया।  

Read Also: जानें, महाराष्ट्र में कब हटा राष्ट्रपति शासन और फडणवीस को कब तक साबित करना है बहुमत

शरद पवार ने 41 साल पहले तोड़ी थी पार्टी
आपातकाल के बाद 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को चुनाव में करारी शिकस्त मिली थी। तब कांग्रेस को महाराष्ट्र में कई सीटों से हाथ धोना पड़ा था और तत्कालीन मुख्यमंत्री शंकर राव चव्हाण ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया था। बाद में कांग्रेस पार्टी टूटकर कांग्रेस-यू और कांग्रेस-आई में बंट गई थी। कांग्रेस के बंटने के बाद शरद पवार के गुरु यशवंत राव पाटिल कांग्रेस-यू में शामिल हुए। उनके साथ शरद पवार भी शामिल हुए। जुलाई 1978 में शरद पवार ने पाटिल के इशारों पर कांग्रेस-यू से खुद को अलग किया और जनता पार्टी के साथ गठबंधन में सरकार बनाई। उस दौरान मात्र 38 साल की उम्र में शरद पवार महाराष्ट्र राज्य के मुख्यमंत्री बने। बाद में यशवंत राव पाटिल भी शरद पवार की पार्टी में शामिल हो गए थे।

पाइए देश-दुनिया की हर खबर सबसे पहले www.livehindustan.com पर। लाइव हिन्दुस्तान से हिंदी समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारा News App और रहें हर खबर से अपडेट।    

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nephew Ajit repeats the History what Uncle Sharad Pawar did 41 years ago