DA Image
14 अगस्त, 2020|5:04|IST

अगली स्टोरी

कालापानी को नक्शे में शामिल करने के बाद नेपाल ने की सशस्त्र बलों की तैनाती, चांगरू पोस्ट पर अब तक रहते थे लाठीवाले पुलिसकर्मी

nepal post

भारतीय इलाकों को अपने नक्शे में शामिल करने के बाद नेपाल ने अब कालापानी के पास सशस्त्र बलों की तैनाती कर दी है। पड़ोसी देश ने कालापानी के पास चांगरू में अपनी सीमा चौकी (बीओपी) को अपग्रेड किया है और इसे स्थायी चौकी बना दिया है जहां सशस्त्र पुलिसकर्मी तैनात होंगे। एक अधिकारी ने गुरुवार को यहां जानकारी दी।

इससे पहले चांगरू सीमा चौकी पर लाठी रखने वाले पुलिसकर्मी तैनात रहते थे। यह चौकी हर साल नवंबर से मार्च तक सर्दियों के मौसम में बंद रहती है। चांगरू नेपाल के धारचूला जिले में स्थित है। नेपाली सेना प्रमुख पूर्णचंद्र थापा ने बुधवार को उन्नत सीमा चौकी का निरीक्षण किया। धारचूला के उप जिलाधिकारी ए के शुक्ला ने गुरुवार को यह जानकारी दी। शुक्ला ने कहा कि बीओपी को स्थायी बना दिया गया है और अब यह अत्यंत सर्दी के बावजूद ठंड के मौसम में बंद नहीं होगी।

यह भी पढ़ें: नेपाल की नेशनल असेंबली ने भी नए नक्शे को दी मंजूरी, भारतीय क्षेत्रों को दिखाया अपना 

उन्होंने कहा कि नेपाल सशस्त्र पुलिस बल के महानिरीक्षक शैलेंद्र खनल के साथ थापा ने चांगरू सुरक्षा चौकी का निरीक्षण किया। बीओपी को अपग्रेट करना और सेना प्रमुख के दौरे को अहम माना जा रहा है क्योंकि नेपाली संसद द्वारा भारत में स्थित लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा को नेपाली क्षेत्र में दर्शाने वाले नए नक्शे को पारित किए जाने के बाद यह उनका पहला दौरा है।

भारत के कड़े विरोध के बावजूद नेपाल की संसद ने उस नए राजनीतिक नक्शे को अपडेट करने के लिए संविधान में गुरुवार को संशोधन कर दिया, जिसमें रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारत के तीन क्षेत्रों को शामिल किया गया है। भारत ने नेपाल के मानचित्र में बदलाव करने और कुछ भारतीय क्षेत्रों को उसमें शामिल करने से जुड़े संविधान संशोधन विधेयक को नेपाली संसद के निचले सदन में पारित किए जाने पर शनिवार को प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि यह ''कृत्रिम विस्तार साक्ष्य और ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित नहीं है और यह मान्य नहीं है।''

यह भी पढ़ें: नेपाल संसद ने पास किया देश का नया नक्‍शा, भारत से सीमा विवाद पर वार्ता की गुंजाइश खत्म

भारत ने नवंबर 2019 में एक नया नक्शा जारी किया था, जिसके करीब छह महीने बाद नेपाल ने पिछले महीने देश का संशोधित राजनीतिक और प्रशासनिक नक्शा जारी कर रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इन इलाकों पर अपना दावा बताया था। भारत और नेपाल के बीच रिश्तों में उस वक्त तनाव पैदा हो गया था, जब रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आठ मई को उत्तराखंड में लिपुलेख दर्रे को धारचुला से जोड़ने वाली रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण 80 किलोमीटर लंबी सड़क का उद्घाटन किया था। नेपाल ने इस सड़क के उद्घाटन पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए दावा किया था कि यह सड़क नेपाली क्षेत्र से होकर गुजरती है। भारत ने नेपाल के दावों को खारिज करते हुए दोहराया था कि यह सड़क पूरी तरह उसके भू-भाग में स्थित है।

(तस्वीर साभार-ऑनलाइनखबर डॉट कॉम)

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nepal upgrades border outpost at Changru armed police personnel deployed