DA Image
19 अप्रैल, 2021|10:28|IST

अगली स्टोरी

नेपाल, भूटान और तिब्बत बॉर्डर की होगी किलेबंदी, गृह मंत्रालय ने दी 13,000 जवानों की तैनाती की मंजूरी

bihar assembly elections  bihar elections 2020  india nepal border  ssb  bsf  sleeper cell  bihar po

केंद्र सरकार ने नेपाल और भूटान की सीमाओं की रक्षा करने के लिए सशस्त्र सीमा बल यानी एसएसबी की एक दर्जन से अधिक नई बटालियनों की मंजूरी दी है। सरकार ने सिक्किम में ट्राई जंक्शन क्षेत्र जो कि भूटान और तिब्बत से जोड़ता है, सहित इन मोर्चों पर "किलेबंदी" करने के लिए 13,000 से अधिक जवानों को इसके लिए शामिल करने का फैसला किया है। न्यूज एजेंसी पीटीआई ने अधिकारियों के हवाले से यह जानकारी दी है।

हालांकि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीमा बल के लिए एक नए क्षेत्र का निर्माण करने से इनकार कर दिया है। विभाग ने एसएसबी को तीन नए क्षेत्रों में से एक बनाने की अनुमति दी है। 

सशस्त्र सीमा बल, जिसके पास करीब 90 हजार कर्मियों की ताकत है, के पास नेपाल के साथ 1,751 किलोमीटर के खुले भारतीय मोर्चे और भूटान के साथ लगने वाले 699 किलोमीटर लंबे बॉर्डर की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। एसएसबी के महानिदेशक कुमार राजेश चंद्रा ने बताया कि 12 नई बटालियनों को अगले चार वर्षों में सीमा की सुरक्षा में तैनात किया जाएगा। प्रत्येक साल तीन बटालियन को मोर्चे पर तैनात किया जाएगा। यह सिलसिला चार वर्षों तक चलेगा। एक बटालियन में 1,000 से अधिक कर्मियों की ताकत होती है।

उन्होंने कहा, "इसके लिए सरकार का समर्थन प्राप्त है। एसएसबी के लिए बटालियनों को बढ़ाने के लिए मंजूरी दे दी गई है। यह सीमा सुरक्षा को मजबूत करेगा।"

गृह मंत्रालय के एक आधिकारिक प्रस्ताव के अनुसार, नई बटालियनों का उपयोग सीमा पर मौजूद चौकी की दूरी को कम करने के लिए किया जाएगा। साथ ही इसके उपयोग नेपाल और भूटान के साथ व्यापार और यात्रा मार्गों को मजबूत करने और सिक्किम में त्रिकोणीय जंक्शन में एसएसबी की ताकत को मजबूत करने के लिए किया जाएगा। त्रिकोणीय जंक्शन क्षेत्र भारत, भूटान और तिब्बत के बीच का पठार है। एसएसबी दक्षिणी सीमा पर इसके ठीक नीचे तैनात है।

अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा अक्टूबर 2019 में एसएसबी के संचालन की समीक्षा करने के बाद बल के लिए नई बटालियनों और प्रतिष्ठानों की मंजूरी का खाका तैयार किया गया था। एसएसबी ने इस कार्य को पूरा करने के बाद, MHA को बताया कि इसके लिए 12 नई बटालियनों, एक फ्रंटियर हेडक्वार्टर और कम से कम तीन सेक्टर मुख्यालयों की आवश्यकता होगी। हालांकि, गृह मंत्रालय ने केवल एक सेक्टर गठन और 12 बटालियनों की मंजूरी दी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nepal Bhutan and Tibet border to be fortified Home Ministry approves deployment of 13000 soldiers