ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशग्रेस मार्क पाने वालों की दोबारा हुई नीट की परीक्षा, 50 प्रतिशत अभ्यर्थियों ने छोड़ा पेपर

ग्रेस मार्क पाने वालों की दोबारा हुई नीट की परीक्षा, 50 प्रतिशत अभ्यर्थियों ने छोड़ा पेपर

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, 1,563 छात्र जिन्हें ग्रेस मार्क्स दिए गए थे उनके लिए आज दोबारा परीक्षा कंडक्ट कराई गई थी।

ग्रेस मार्क पाने वालों की दोबारा हुई नीट की परीक्षा, 50 प्रतिशत अभ्यर्थियों ने छोड़ा पेपर
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 23 Jun 2024 07:41 PM
ऐप पर पढ़ें

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने रविवार को चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के छह केंद्रों पर 1,563 उम्मीदवारों के लिए नीट-यूजी परीक्षा को दोबारा कंडक्ट किया। एनटीए के मुताबिक, 1,563 अभ्यर्थियों में से 813 ही परीक्षा देने आए, जबकि 750 छात्रा ने यह परीक्षा छोड़ दी। उल्लेखनीय है कि ग्रेम मार्क पाने वालों के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद फिर से परीक्षा कराई गई।

छत्तीसगढ़ में यह परीक्षा दो केंद्रों पर आयोजित होनी थी, जिसमें 602 अभ्यर्थी पुनः परीक्षा के लिए पात्र थे, जिसमें आज 291 अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंचे। वहीं हरियाणा में 494 उम्मीदवारों के लिए दो परीक्षा केंद्रों पर व्यवस्था की गई थी। इनमें से 287 छात्र परीक्षा में शामिल हुए। मेघालय में 464 पात्र अभ्यर्थियों में से 234 ने आज परीक्षा दी। वहीं गुजरात में एक अभ्यर्थी के लिए पुनः परीक्षा आयोजित की गई।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की लिखित शिकायत के आधार पर नीट/यूजी में कथित अनियमितताओं के मामले में आपराधिक मामला दर्ज किया है। आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को यहां यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि गत पांच मई को राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) द्वारा आयोजित नीट (यूजी) 2024 परीक्षा के दौरान कुछ राज्यों में कुछ अलग-अलग घटनाएं हुईं।

यह परीक्षा 571 शहरों में 4,750 केंद्रों पर आयोजित की गई थी, जिसमें 14 विदेशी शहर भी शामिल थे। परीक्षा में 23 लाख से अधिक उम्मीदवार शामिल हुए थे। उन्होंने बताया कि शिक्षा मंत्रालय ने सीबीआई से कथित अनियमितताओं के पूरे मामले की व्यापक जांच करने का अनुरोध किया है, जिसमें षडयंत्र, धोखाधड़ी, प्रतिरूपण, विश्वासघात और उम्मीदवारों, संस्थानों और बिचौलियों द्वारा सबूतों को नष्ट करना, अनियमितताओं का प्रयास करना शामिल है।

मंत्रालय ने सीबीआई से परीक्षा के आयोजन से जुड़े लोक सेवकों की भूमिका, यदि कोई हो, की जांच करने तथा घटनाओं के पूरे दायरे और बड़ी साजिश की जांच करने का अनुरोध किया है। सीबीआई ने तदनुसार एक आपराधिक मामला दर्ज किया है और जांच शुरू की है। मामले की सर्वोच्च प्राथमिकता पर जांच करने के लिए सीबीआई द्वारा विशेष टीमों का गठन किया गया है एवं इन टीमों को पटना और गोधरा भेजा जा रहा है जहां स्थानीय पुलिस ने मामले दर्ज किए हैं।