DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

NEET 2018: सरकार ने काउंसलिंग पर लगाई रोक, अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद होगी शुरू

cbse neet 2018

मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET 2018 पर मद्रास हाईकोर्ट के फैसले के दो दिन बाद गुरुवार को सरकार ने नीट की काउंसलिंग पर रोक लगा दी। मेडिकल काउंसलिंग कमिटी (एमएससी) गुरुवार को ही दूसरे राउंड की काउंसलिंग का रिजल्ट जारी करने वाली थी। लेकिन स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने काउंसलिंग की प्रक्रिया पर रोक लगा दी है। अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ही काउंसलिंग प्रक्रिया फिर से शुरू हो सकेगी। 

आपको बता दें कि मद्रास हाईकोर्ट के एक फैसले से इसी महीने जारी ‘नीट' के नतीजों पर पेच फंस गया है। हाईकोर्ट ने मंगलवार को तमिल माध्यम से नीट देने वाले छात्र-छात्राओं को 196 अंक अतिरिक्त देने का आदेश दिया था। इससे नीट की रैंकिंग पर असर पड़ने की संभावना है। सीबीएसई ने फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है। 

मद्रास हाईकोर्ट ने सीबीएसई से कहा कि परीक्षा में कुल 49 प्रश्नों में अनुवाद की त्रुटियां थी, जिनके लिए प्रति प्रश्न चार अंक दिया जाना चाहिए। पीठ ने तमिल माध्यम से नीट देने वाले सभी 24,720 प्रतिभागियों को 196 अंक अतिरिक्त देने का आदेश दिया। मदुरै पीठ के जस्टिस सीटी सेल्वम और जस्टिस एएम बशीर अहमद ने माकपा नेता टीके रंगराजन की जनहित याचिका पर यह आदेश दिया। कोर्ट ने सीबीएसई से कहा कि वह योग्य उम्मीदवारों की रैंकिंग को संशोधित कर इसे फिर से प्रकाशित करे। 

 

ये भी पढ़ें : NEET 2018: तमिल में नीट देने वालों को 196 ग्रेस मार्क्स देने का आदेश

फैसले से हड़कंप
मद्रास हाई कोर्ट के इस निर्णय के बाद सीबीएसई और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में हड़कंप मच गया। प्रत्येक विद्यार्थी को 196 अंक देने से उनमें से कई के मेरिट लिस्ट में आने की संभावना बन जाएगी। वहीं, पहले से मेरिट में मौजूद छात्र इससे बाहर हो जाएंगे, जबकि इनमें से अधिकतर ने पहली काउंसलिंग में प्रवेश ले लिया है। 

ये भी पढ़ें :  NEET पर मद्रास हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देगा सीबीएसई

स्वास्थ्य मंत्रालय फैसले से असहमत
स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को इस फैसले को अनुचित बताते हुए कहा था कि अगर ऐसा आदेश देना था, तो परिणाम आने से पहले ही दे देना चाहिए था। अब जबकि प्रवेश प्रक्रिया पूरी होने के चरण में है, ऐसे आदेश से हजारों छात्र परेशान होंगे।

दिक्कतें
-  196 अंक अतिरिक्त देने से हजारों बच्चे मेरिट लिस्ट में आ जाएंगे और शीर्ष कॉलेजों के हकदार हो जाएंगे
- काफी कॉलेजों की अधिकतर सीटें भर चुकी हैं, ज्यादातर कॉलेजों में तो पढ़ाई भी शुरू हो चुकी है
- 'नए छात्रों के लिस्ट में शामिल होने से पुराने छात्रों की रैंकिंग में कमी आएगी और उनके प्रवेश रद्द होंगे
- 'आदेश का अक्षरश: पालन करने को अब तक की प्रक्रिया रद्द कर सब नए सिरे से शुरू करना होगा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NEET 2018: Government stops under graduate neet counseling process now it will start after the Supreme Court order