DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आजम खान के बयान पर महिला आयोग सख्त, EC से कड़ी कार्रवाई करने की अपील

Azam Khan

अभिनेत्री और राजनेता जया प्रदा के खिलाफ समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान द्वारा आपत्तिजनक टिप्पणी किये जाने पर सख्त रुख अपनाते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने निर्वाचन आयोग से उनके खिलाफ “कड़ी कार्रवाई” का अनुरोध किया है। एनसीडब्ल्यू अध्यक्ष रेखा शर्मा ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को एक पत्र लिखकर दो घटनाओं का जिक्र किया जब उन्होंने जया प्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की। जयाप्रदा उत्तर प्रदेश की रामपुर संसदीय सीट से सपा उम्मीदवार खान के खिलाफ भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ रही हैं।

रामपुर में एक चुनावी सभा के दौरान, खान ने कहा था, “रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिंदुस्तान वालों! उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गए। लेकिन मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का जो अंडरवियर है वह भी खाकी रंग का है।” एनसीडब्ल्यू ने कहा कि खान द्वारा की गई कथित टिप्पणी “आपत्तिजनक, अनैतिक और महिलाओं की गरिमा के प्रति निरादर दर्शाने वाली है।”

जया प्रदा पर आजम के जिस बयान पर मचा है बवाल, उसपर दी ये सफाई

इससे पहले भी खान ने जया प्रदा के 'घुंघरुओं' को लेकर टिप्पणी की थी। इन दोनों मामलों को संज्ञान में लेते हुए एनसीडब्ल्यू ने निर्वाचन आयोग से अनुरोध किया कि मामले की जांच करें और खान के खिलाफ उचित ''सख्त" कार्रवाई करें। एनसीडब्ल्यू ने भी इन टिप्पणियों को लेकर खान को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

'अंडरवियर' बयान पर आजम के खिलाफ एफआईआर
उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से सपा-बसपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी आजम खान के भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा के खिलाफ एक तथाकथित विवादित बयान को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई है। रामपुर के जिलाधिकारी आजेन्य कुमार सिंह ने सोमवार को पीटीआई...भाषा से कहा, ''आजम खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 509 (किसी स्त्री की मर्यादा का अनादर करने के आशय से कोई अश्लील शब्द कहना या हावभाव प्रकट करना) और कुछ अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराया गया है।''

दूसरी ओर निर्वाचन आयोग ने जयाप्रदा के बारे में रविवार को दिये गये खान के आपत्तिजनक बयान को चुनाव आचार संहिता उल्लंघन माना और कड़ी फटकार लगायी। साथ ही अगले तीन दिन तक प्रचार करने से रोक दिया है। यह दूसरा मौका है जब आजम खान को आयोग द्वारा प्रचार करने से प्रतिबंधित किया गया हो।

आरोप है कि सपा नेता और राज्य के पूर्व मंत्री खान ने रविवार को जयाप्रदा के खिलाफ वह 'अमर्यादित बयान दिया। सोशल मीडिया पर वायरल सामग्री के अनुसार खान ने अपनी चुनाव रैली में कहा था, ''रामपुर वालों, उत्तर प्रदेश वालों, हिन्दुस्तान वालों, उसकी असलियत समझने में आपको 17 बरस लग गये। मैं 17 दिनों में पहचान गया कि इनके नीचे का जो अंडरवियर है वह खाकी रंग का है।'' हालांकि आजम ने एक दिन बाद सफाई देते हुये कहा कि उन्होंने अपने भाषण में किसी का नाम नहीं लिया और अगर किसी का नाम लिया हो तो वह चुनाव नहीं लड़ेंगें।

वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ट्विटर पर कहा, ''आजम खान का जया प्रदा के खिलाफ दिया गया बेहूदा बयान ना सिर्फ उनका बल्कि देश की करोड़ों मांओं और बहनों का अपमान है। यह देश की महाशक्ति (महिला शक्ति) का तिरस्कार है। साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती से सवाल किया कि क्या वह खान के बयान का समर्थन करते हैं?"

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने खान के बयान की निंदा की और कहा, ''आजम का यह बयान समाजवादी पार्टी की घटिया सोच को दर्शाता है।" जयाप्रदा ने कहा, ''वह लक्ष्मण रेखा पार कर गये, अब मेरे लिये कोई (आजम) भाई नहीं है। भाई मान के सब कुछ सहने का काम किया था अब बर्दाश्त खत्म हो गया। जनता जो है वह बतायेगी, लोग महिलाओं को पूजते हैं, यह आदमी क्या कर रहा है? इसको चुनाव लड़ने का अधिकार है। मैं चुनाव आयोग से अपील करती हूं कि इनके चुनाव लड़ने की योग्यता खत्म हो जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:NCW urges Election Commission to take strict action against Azam Khan