DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशआर्यन खान को जमानत और वानखेड़े की गिरफ्तारी की आशंका के बीच बोले नवाब मलिक, पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त

आर्यन खान को जमानत और वानखेड़े की गिरफ्तारी की आशंका के बीच बोले नवाब मलिक, पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त

लाइव हिन्दुस्तान,मुंबईSudhir Jha
Thu, 28 Oct 2021 06:23 PM
आर्यन खान को जमानत और वानखेड़े की गिरफ्तारी की आशंका के बीच बोले नवाब मलिक, पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त

क्रूज ड्रग्स केस को लेकर गुरुवार का दिन काफी अहम रहा। एक तरफ जहां शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को हाई कोर्ट से जमानत मिल गई तो दूसरी तरफ इस केस की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) अधिकारी समीर वानखेड़े ने गिरफ्तारी की आशंका में हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। वानखेड़े को लगातार निशाने पर रखने वाले महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता नवाब मलिक ने शाहरुख खान की फिल्म का मशहूर डायलॉग ट्वीट किया है। मलिक ने ट्वीट किया है, ''पिक्चर अभी बाकी है मेरे दोस्त।''

'जेल जाने से डरने लगा जेल भेजना वाला'
नवाब मलिक ने मीडिया से बातचीत में वानखेड़े पर तंज कसते हुए यह भी कहा कि जेल भेजने वाला अब खुद जेल जाने से डरने लगा है। गौरतलब है कि वानखेड़े ने गुरुवार को हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए कहा कि उन्हें आशंका है कि मुंबई पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर सकती है। महाराष्ट्र सरकार ने कोर्ट को बताया कि वानखेड़े को वसूली और भ्रष्टाचार के आरोपों के सिलसिले में 72 घंटे का नोटिस दिए बगैर गिरफ्तार नहीं करेगी। 

'आर्यन के खिलाफ फर्जी केस'
नवाब मलिक ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, ''आर्यन खान और दो अन्य को क्रूड रेड केस में बॉम्बे हाई कोर्ट ने जमानत दे दी है। कल ही दो अन्य को भी जमानत मिल गई। ऐसे केस में एस्प्लेनेड कोर्ट से ही जमानत मिल जानी चाहिए थी, लेकिन एनसीबी के वकीलों ने हर दिन नए दलीलों के साथ उन्हें जेल में रखने के लिए हर कोशिश की। आखिरकार उन्हें जमानत मिल गई है और मैं दोहरा रहा हूं, यह झूठा मुकदमा है। जानबूझकर वानखेड़े ने उन पर आरोप लगाए। यदि आरोपी सबूत के साथ हाई कोर्ट जाएंगे तो इसे रद्द किया जा सकता है।''

'फर्जीवाड़े की वजह से डर'
मलिक ने कहा, ''अधिकारी (समीर वानखेड़े) जिसने उन्हें गिरफ्तार किया हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि मुंबई पुलिस को उनके खिलाफ लगे आरोपों की जांच की इजाजत ना दी जाए। पुलिस ने कहा कि यदि हमें उन्हें गिरफ्तार करना है तो पहले 72 घंटे का नोटिस दिया जाएगा। कल तक वह मुंबई पुलिस से गुजारिश कर रहे थे कि उन्हें गिरफ्तार ना किया जाए और आज हाई कोर्ट चले गए। यह वही पुलिस अधिकारी है जिन्होंने मुंबई पुलिस से सुरक्षा मांगी और अब एक सप्ताह में ही क्या बदल गया कि उन्होंने मुंबई पुलिस में विश्वास खो दिया। सच यह है कि उन्होंने फर्जीवाड़ा किया है और इसलिए पुलिस से डरे हुए हैं।''

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें