ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशनागालैंड के मंत्री ने दिया जनसंख्या वृद्धि का 'अनोखा समाधान', बोले- मेरी तरह सिंगल रहो

नागालैंड के मंत्री ने दिया जनसंख्या वृद्धि का 'अनोखा समाधान', बोले- मेरी तरह सिंगल रहो

हाल ही में "छोटी आंखों" वाली टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा में आए नगालैंड के मंत्री तेमजेन इमना अलोंग ने कहा कि देश में आबादी की बढ़ती रफ्तार को रोकने के लिए 'सिंगल' रहना चाहिए।

नागालैंड के मंत्री ने दिया जनसंख्या वृद्धि का 'अनोखा समाधान', बोले- मेरी तरह सिंगल रहो
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 11 Jul 2022 04:44 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत अगले साल दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में चीन से आगे निकल सकता है। यानी भारत दुनिया का सबसे ज्यादा जनसंख्या वाली देश बन जाएगा। जनसंख्या वृद्धि को लेकर समय समय पर बहस छिड़ती रहती रही है। अब नगालैंड के मंत्री ने जनसंख्या वृद्धि को लेकर बड़ा ही अनोखा समाधान पेश किया है। 

हाल ही में "छोटी आंखों" वाली टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा में आए नगालैंड के मंत्री तेमजेन इमना अलोंग ने कहा कि देश में आबादी की बढ़ती रफ्तार को रोकने के लिए 'सिंगल' रहना चाहिए। उन्होंने इसके लिए लोगों से 'सिंगल के आंदोलन' में शामिल होने का आह्वान किया। तेमजेन इमना अलोंग नागालैंड के उच्च शिक्षा और आदिवासी मामलों के मंत्री हैं। उन्होंने सोमवार को विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर परिवार नियोजन को लेकर भी जागरुकता फैलाने की बात कही। इस दौरान उन्होंने यह "समाधान" भी सुझाया।

मंत्री ने ट्वीट कर लिखा, "विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर, आइए हम जनसंख्या वृद्धि के मुद्दों को लेकर समझदार हों और बच्चे पैदा करने पर समझदारी भरा विकल्प चुनें। या मेरी तरह सिंगल रहें और साथ में हम एक स्थायी भविष्य की दिशा में योगदान कर सकते हैं। आइए आज 'सिंगल मूवमेंट' में शामिल हों।” तेमजेन इम्ना अलोंग के मजाकिया मैसेज की ट्विटर पर कई लोगों ने सराहना की। एक यूजर ने लिखा, "आपका सेंस ऑफ ह्यूमर यूनीक है।” 

 

"छोटी आंखों के होते हैं बड़े फायदे"

हाल ही में तेमजेन इमना अलोंग ने छोटी आंखों को लेकर एक बयान दिया था। अलांग का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में तेमजेन इमना छोटी आंख होने के फायदे बता रहे हैं। ओलांग कहते हैं कि 'लोग कहते हैं कि पूर्वोत्तर वालों की आंखें बहुत छोटी होती हैं। लेकिन छोटी आंखें होने के बावजूद हम सबकुछ साफ-साफ देख लेते हैं। इसके बाद वह कहते हैं कि आंखों के छोटा होने से इसमें बहुत ज्यादा गंदगी भी नहीं जाती है। तेमजेन यहीं नहीं रुकते, वह कहते हैं सिर्फ इतना ही नहीं, आंखें छोटी होने के चलते जब कोई कार्यक्रम बहुत लंबा चल रहा होता है तो हम मंच पर सो भी जाते हैं और नींद पूरी कर लेते हैं।'

epaper