ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशज्ञानवापी को मस्जिद बताने वालों को मुस्लिम स्कॉलर की सलाह- हिंदुओं से बैठकर समझौता कर लो

ज्ञानवापी को मस्जिद बताने वालों को मुस्लिम स्कॉलर की सलाह- हिंदुओं से बैठकर समझौता कर लो

ज्ञानवापी को सर्वे रिपोर्ट के बाद भी मस्जिद बताने वालों को मुस्लिम स्कॉलर कारी अबरार जमाल ने सलाह दी है कि उन्हें हिंदुओं के साथ बैठकर बात करनी चाहिए और फिर समझौता कर लेना चाहिए।

ज्ञानवापी को मस्जिद बताने वालों को मुस्लिम स्कॉलर की सलाह- हिंदुओं से बैठकर समझौता कर लो
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 30 Jan 2024 06:30 PM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर के पास ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर विवाद चल रहा है। इसी बीच ASI की सर्वे रिपोर्ट में बड़ा दावा किया गया और कहा गया कि मस्जिद का निर्माण मंदिर के ऊपर किया गया है। वहीं मस्जिद के तहखाने में कन्नड़, तेलुगु और देवनागरी लिपियों में कई शिलालेख मिले हैं जो यहां पर मंदिर होने की पुष्टि करते हैं। इस मामले में विश्वि हिंदू परिषद पहले ही कह चुका है कि मुस्लिम समुदाया को ज्ञानवापी हिंदुओं को सौंप देनी चाहिए। यही बात अब मुस्लिम स्कॉलर ने भी कही है।

इस संबंध में जमीयत हिमायतुल इस्लाम, सहारनपुर, उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष और मुस्लिम विद्वान कारी अबरार जमाल ने मुसलमानों को एक सलाह दी है। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों को हिंदुओं के साथ बैठकर समझौता कर लेना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने एएसआई रिपोर्ट को गलत बताने वालों को लताड़ भी लगाई। 

टुकड़े-टुकड़े गैंग वाले खारिज कर रहे सर्वे रिपोर्ट
कारी ने कहा, जो लोग ज्ञानवापी पर एएसआई की रिपोर्ट कको खारिज कर रहे हैं वे टुकड़े-टुकड़े गैंग से हैं। सर्वे कोर्ट के ऑर्डर पर किया गया था क्या इन लोगों को अब कोर्ट पर भी भरोसा नहीं रहा? क्या अब ये लोग कोर्ट और देश को भी बांट देना चाहते हैं। उन्होंने आगे कहा, आरएसस चीफ पहले ही कह चुके हैं कि हिंदुओं को सभी मस्जिदों में शिवलिंग की  तलाश नहीं करनी है। अब मुस्लिमों को भी बड़ा दिल दिखाना चाहिए और सहमति बनाने के लिए हिंदुओं के साथ बैठकर बात करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के पहले विघटन का कारण टुकड़े-टुकड़े गैंग ही था। बाद में पाकिस्तान और बांग्लादेश भी अलग हो गए। उन्होंने चिंता जताई कि अब ये लोग इस देश को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।

प्राण प्रतिष्ठा में भी मिला था न्योता
मुस्लिम स्कॉलर को अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा में भी आमंत्रित किया गया था। उन्होंने कहा, मैं राम मंदिर ट्रस्ट के लोगों को धन्यवाद देता हूं. उन्होंने मुझे योग्य समझा और निमंत्रण भेजा। उन्होंने हमें वहां बुलाया और हमारा सम्मान किया। यह सम्मान हमारे लिए ऐतिहासिक है। बता दें कि ज्ञानवापी विवाद को लेकर हिंदू औऱ मुस्लिम दोनों पक्षों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। इसके बाद अदालत ने सर्वे का आदेश दिया था। यह रिपोर्ट अब हिंदू और मस्लिम पक्षकारों को सौंप दी गई है। रिपोर्ट में कई ऐसी बातें थीं जो कि संकेत करती हैं कि मंदिर के ऊपर ही मस्जिद बनाया गया था।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें