DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई भगदड़: लोगों ने पहले ही हादसे को लेकर चेताया था

Mumbai stampede

मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन पर हुए हादसे को लेकर लोगों ने पहले ही आगाह किया था। एक पत्रकार ने दो दिन पहले ही फेसबुक पर हादसे वाले फुटओवर ब्रिज पर यात्रियों की भीड़ की तस्वीर साझा कर खतरे की आशंका जताई थी। अगर रेलवे इस पर समय रहते कदम उठाता तो शायद इतना बड़ा हादसा नहीं होता। 

माई मेडिकल मंत्र के वरिष्ठ संपादक संतोष आघले ने बुधवार को फेसबुक पर उसी फुटओवर ब्रिज की फोटो साझा की थी जिसमें हादसा हुआ है। उन्होंने ब्रिज पर हजारों यात्रियों को दिखाते हुए स्थिति चिंताजनक बताई थी। उन्होंने अपनी पोस्ट में आगाह किया था कि जर्जर ब्रिज हजारों लोगों का बोझ सहने लायक नहीं है। उन्होंने सेंट्रल रेलवे  से स्टेशन के हालात ठीक करने के लिए कहा था। हादसे के बाद उन्होंने फेसबुक पर फिर से अपनी पुरानी फोस्ट शेयर की। 

नया ब्रिज न बनाकर सिर्फ नाम बदला
स्थानीय लोगों ने बताया कि फुटओवर ब्रिज को लेकर कई बार रेलवे अधिकारियों से शिकायत की और कदम उठाने को कहा था लेकिन कुछ नहीं हुआ। लोगों ने कहा कि यह समस्या काफी पुरानी है। ब्रिज पर हमेशा भीड़ रहती है। लोगों का कहना है कि एक और ब्रिज बनाने की मांग लंबे समय से की जा रही है लेकिन रेलवे ने इंफ्रास्ट्रक्चर के नाम पर उठी इन मांगों को पूरा करने की जगह इस स्टेशन का नाम बदलकर प्रभादेवी स्टेशन कर दिया। उनका कहना है कि पास में ही एक ब्रिज आधा बनाकर छोड़ दिया गया है। दफ्तर जाने के वक्त हमेशा भीड़ होती है और हादसे का डर बना रहता था। लोगों का कहना है कि एक और ब्रिज बनाने की मांग लंबे 

दो सांसदों ने ब्रिज के लिए पत्र लिखा था
शिवसेना के दो सांसदों राहुल शिवाले और अरविंद सांवत ने 2015-16 में इसी ब्रिज को चौड़ा करने के लिए तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु को पत्र लिखा था। लेकिन प्रभु ने कहा था कि रेलवे के पास इसके लिए फंड नहीं है। पत्र लिखने वाले सांसद शिवाले ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को रेलमंत्री से लेकर संसद में उठाया था लेकिन किसी ने भी इस पर गंभीरता नहीं दिखाई। उन्होंने कहा कि हादसा रेलवे का लापरवाही का ही नतीजा है।

थोड़ी ही देर में घायलों के लिए खून जुटा दिया
मुंबई सिर्फ सपनों का ही नहीं जिंदादिलों का भी शहर है। शहर के लोगों ने एलफिंस्टन स्टेशन पर घायल हुए लोगों के लिए कुछ मिनटों में ही खून जुटाकर इसका सबूत भी दे दिया। केईएम अस्पताल में भर्ती घायलों की मदद के लिए खून की जरूरत थी। इसके लिए मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर लोगों से खून देने की अपील की। इस ट्वीट के बाद अस्पताल के बाहर खून देने वालों की लंबी लाइन लग गई और कुछ ही देर में जरूरतभर के खून की व्यवस्था हो गई। मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि खून की जरूरत के लिए आप सबकी प्रतिक्रिया के लिए शुक्रिया मुंबई। जरूरत के वक्त सहयोग के लिए धन्यवाद।  

दो स्टेशन को जोड़ता है एलफिंस्टन ब्रिज
एलफिंस्टन और परेल स्टेशन के बीच एलफिंस्टन ब्रिज एक कनेटिंब ब्रिज है जो वेस्टर्न और सेंट्रल रेलवे के इन दो स्टेशनों को आपस में जोड़ता है। इस इलाके में इंडिया बुल्स रीयल एस्टेट, हाउजिंग फाइनेंस लिमिटेड जैसे कई निजी और सरकारी कार्यालय हैं। इसके चलते सुबह के समय यहां अकसर काफी भीड़ हो जाती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mumbai Stampede: People had already warned about the accident