DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटे ने लिवर, पत्नी ने किडनी दान की और बच गई रहमान की जान

                           afp

दिल्ली में एक 54 वर्षीय मरीज की किडनी और लिवर फेल होने पर उसके बेटे और पत्नी ने अंग दान कर जान बचाई है। मुंबई के रहने वाले राजोर रहमान की किडनी और लिवर दोनों ने काम करना बंद कर दिया था। 

उनकी जान पर बन आई थी, लेकिन उनके बेटे और पत्नी ने अंग दान कर उनकी जान बचा ली। मरीज की 46 वर्षीय पत्नी किश्व निषात ने अपनी किडनी दान की और उनके 25 वर्षीय बेटे शानूर रहमान ने अपना लिवर दान किया। साकेत स्थित मैक्स अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि राजोर रहमान की किडनी और लिवर फेल हो गए थे।

वह लंबे समय से डायबिटीज के मरीज थे। 10 साल पहले उनकी भोजन नालिका फेल गई थी। दिसंबर 2018 में उन्हें कमजोरी के बाद मुंबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां जांच की गई तो किडनी की बीमारी से पीड़ित होने का पता चला। उन्हें यहां लाने का सुझाव दिया गया। यहां लिवर और किडनी के प्रत्यारोपण की सलाह दी गई। 24 घंटे चली सर्जरी में उनके दोनों अंग साथ प्रत्यारोपित किए गए। डॉक्टरों ने उन्हें छुट्टी दे दी है।

परिवार के तीनों लोगों की एक साथ सर्जरी

रहमान ने बताया कि जब उन्हें एक साथ लिवर और किडनी दोनों के प्रत्यारोपण कराने की सलाह मिली तो वे चिंतित हो गए। वजह थी कि परिवार में उनके अलावा उनकी पत्नी और बेटे की भी एक साथ सर्जरी होनी थी। ऐसे में वे काफी परेशान थे लेकिन परिजनों ने उनका हौसला बढ़ाया और सर्जरी के लिए राजी कर लिया। डॉ. सुभाष गुप्ता ने बताया कि लिवर और किडनी का एक साथ काम करना बंद हो जाए तो मरीज के लिए जान का खतरा बन जाता है। लिवर फेल होने से दिल की बीमारियां होने का खतरा भी काफी हद तक बढ़ जाता है। 

'एक राष्ट्र एक चुनाव' पर बनेगी समिति, जो तय सीमा में देगी अपनी रिपोर्ट

151 मासूमों की मौत के बाद जागा अस्पताल प्रशासन, लगे एसी-कूलर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:mumbai man got saved after his wife donated him kidney and son donates liver