DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

MUMBAI BRIDGE COLLAPSE: सेफ्टी ऑडिट में हुई लापरवाही, शुरुआती रिपोर्ट में खुलासा

 kunal patil ht photo

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन के पास गुरुवार को हुए फुट ओवरब्रिज हादसे में बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की प्रारंभिक रिपोर्ट में सेफ्टी ऑडिट में लापरवाही सामने आई है। हादसे में छह लोगों की मौत हो गई थी और 30 से अधिक लोग घायल हो गए थे। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक फुटओवर ब्रिज की सेफ्टी ऑडिट गैर-जिम्मेदार और लापरवाहीपूर्ण तरीके से की गई थी। इस हादसे से बचा जा सकता था अगर फुटओवर ब्रिज की संरचनात्मक ऑडिट को पूरी ईमानदारी से किया जाता।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज शुक्रवार की सुबह घटनास्थल का दौरा किया और इस घटना में घायल हुए लोगों से मुलाकात की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से एक प्रारंभिक रिपोर्ट मांगी थी ताकि उन्हें दुर्घटना के लिए "प्राथमिक जिम्मेदारी" तय करने के लिए कहा जा सके।

हादसे के बाद बीएमसी ने दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया है और दो सेवानिवृत्त अधिकारियों के खिलाफ जांच का आदेश दिया है। ऑडिटर और एक ठेकेदार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है जिन्होंने पुल की मरम्मत की। मुंबई में नौ महीनों में पुल गिरने की यह दूसरी घटना थी। 3 जुलाई, 2018 को अंधेरी रेलवे स्टेशन पर रेलवे ट्रैक पर गोखले पुल का एक पैदल मार्ग दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। उस घटना में दो लोग मारे गए थे जबकि पांच अन्य घायल हो गए थे।

जुलाई 2018 की घटना के बाद, रेलवे ने मुंबई में रेलवे पटरियों को पार करते हुए 445 पुल संरचनाओं के ऑडिट का आदेश दिया था। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT)-बॉम्बे की अध्यक्षता वाली एक टीम  ने पुलों का ऑडिट किया था। तब पुल उपयोग के लिए फिट पाया गया था।

बीएमसी की जांच का स्वागत

मध्य रेलवे के अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि बृहन्मुंबई महानगरपालिका प्रमुख अजय मेहता ने सीएसएमटी स्टेशन से जुड़े पैदल पार पुल (एफओबी) के ढहने की जांच शुरू की है, जिसका वे स्वागत करते हैं। इससे यह साफ हो गया कि यह पुल रेलवे के अंतर्गत नहीं आता है, इसलिए उनपर लापरवाही का आरोप नहीं लगना चाहिए। गौरतलब है कि सीएसएमटी स्टेशन पर जाने के लिए रोजाना हजारों रेल यात्रियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पुल के गुरुवार शाम ढहने के बाद से मध्य रेलवे की जमकर आलोचना हुई है, लेकिन रेलवे दावा करता रहा कि एफओबी नगर निगम के अंतर्गत आता है।

बीएमसी ने ली जिम्मेदारी

मध्य रेलवे के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ''बीएमसी के शीर्ष अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि पुल नगर निकाय के अधिकार क्षेत्र और रखरखाव के अंतर्गत आता है। इसे बनाने या इसके रखरखाव में रेलवे की कोई भूमिका नहीं थी। इसलिए, एफओबी के ढहने के संबंध में रेलवे के अधिकारियों पर लापरवाही का सवाल ही नहीं उठता है।

ढहाया जाएगा पुल

छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस रेलवे स्टेशन को जोड़ने वाले पुल के गिरने के एक दिन बाद बृहन्मुंबई महा नगरपालिका ने पुल को ढहाने का फैसला लिया है। बीएमसी आयुक्त अजय मेहता की अध्यक्षता वाली बैठक में शुक्रवार को सुबह यह भी फैसला लिया गया कि महानगरपालिका के मुख्य इंजीनियर (सतर्कता) पुल के गिरने के कारणों की जांच करेंगे।

न्यूजीलैंड: मस्जिद आतंकी हमले में 49 की मौत, भारतीय मूल के 9 लोग लापता

लोकसभा चुनाव : बीजेपी-शिवसेना गठबंधन पर आया सर्वे, फायदे में शिवसेना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:MUMBAI BRIDGE COLLAPSE Safety audit negligent says initial report on Mumbai footbridge collapse that killed 6