ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशYSR नेता ने पूरा किया वादा, पवन कल्याण जीते तो बदल लिया अपना नाम

YSR नेता ने पूरा किया वादा, पवन कल्याण जीते तो बदल लिया अपना नाम

पवन कल्याण की पार्टी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का हिस्सा है। वह आंध्र प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बनाए गए हैं। मालूम हो कि मुद्रगड़ा और पवन कल्याण दोनों कापू समुदाय से आते हैं।

YSR नेता ने पूरा किया वादा, पवन कल्याण जीते तो बदल लिया अपना नाम
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,हैदराबादFri, 21 Jun 2024 09:56 AM
ऐप पर पढ़ें

जन सेना पार्टी के नेता पवन कल्याण को चुनाव में हरा नहीं पाने पर पूर्व मंत्री मुद्रगड़ा पद्मनाभम ने अपना नाम बदल लिया है। अब आधिकारिक तौर पर उनका नाम मुद्रगड़ा पद्मनाभ रेड्डी हो गया है। सीनियर लीडर के बदले हुए नाम को आंध्र प्रदेश राजपत्र में दर्ज कर लिया गया है। दरअसल, मुद्रगड़ा बीते मार्च में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे। मुद्रगड़ा ने कसम खाई थी अगर वह पवन कल्याण को हराने में विफल रहे तो अपना नाम बदल लेंगे। उन्होंने कहा था कि वह अपने नाम में रेड्डी टाइटल लगाने लगेंगे। अभिनेता से नेता बने पवन कल्याण ने काकीनाडा जिले की पीथापुरम सीट पर YSR कांग्रेस के पूर्व सांसद को हरा दिया। उन्होंने वंगा गीता के खिलाफ 65,000 से अधिक वोटों से जीत दर्ज की। 

पवन कल्याण की पार्टी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का हिस्सा है। वह आंध्र प्रदेश के उपमुख्यमंत्री बनाए गए हैं। मालूम हो कि मुद्रगड़ा और पवन कल्याण दोनों ही कापू समुदाय से आते हैं। चुनाव प्रचार के दौरान मुद्रगड़ा ने कापू समुदाय के लिए आरक्षण की मांग उठाई थी। साथ ही, उन्होंने इसका समर्थन नहीं करने को लेकर पवन कल्याण की आलोचना की थी। 4 जून को चुनाव के नतीजे घोषित हुए। इसके बाद मुद्रगड़ा ने वादा निभाते हुए अपना नाम बदल लिया। अब वह पद्मनाभ रेड्डी हो गए हैं। उन्होंने कहा कि YSR कांग्रेस सरकार की ओर से विकास के कई सारे काम किए गए। इसके बावजूद मतदाताओं ने जगन मोहन रेड्डी को नकार दिया। उन्होंने कहा कि यह वाकई हैरान करने वाली बात है।

आंध्र प्रदेश के उपमुख्यमंत्री का संभाला पदभार 
बता दें कि पवन कल्याण ने बीते बुधवार को अमरावती स्थित सचिवालय में आंध्र प्रदेश के उपमुख्यमंत्री का पदभार संभाला। इसके साथ ही, उन्होंने पंचायत राज, ग्रामीण विकास एवं पर्यावरण मंत्री की जिम्मेदारी भी दी गई है। कल्याण ने पंचायत राज मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद नरेगा कार्यों को बागवानी कार्यों से जोड़ने से संबंधित फाइलों पर हस्ताक्षर किए। इसके अलावा, आदिवासी गांवों में आदिवासी पंचायतों के लिए भी मंजूरी दी। मंत्री नादेंदला मनोहर, कंडुला दुर्गेश, सांसद टी. उदय श्रीनिवास और जनसंपर्क एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रमुख सचिव शेषभूषण कुमार, आयुक्त कन्नाबाबू और वन विभाग के पीसीसीएफ चिरंजीवी चौधरी सहित कई अधिकारियों ने इस अवसर पर पवन कल्याण को बधाई दी।

Advertisement