ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकुछ फसलों पर MSP का प्रस्ताव, मैराथन बैठक में सरकार का फैसला; क्या मानेंगे किसान

कुछ फसलों पर MSP का प्रस्ताव, मैराथन बैठक में सरकार का फैसला; क्या मानेंगे किसान

एमएसपी की कानूनी गारंटी और कर्ज माफी समेत कई मांगों को लेकर दिल्ली कूच पर अड़े पंजाब के किसान संगठनों और केंद्रीय मंत्रियों की चंडीगढ़ में चौथे दौर की वार्ता देर रात खत्म हो गई।

कुछ फसलों पर MSP का प्रस्ताव, मैराथन बैठक में सरकार का फैसला; क्या मानेंगे किसान
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Mon, 19 Feb 2024 01:35 AM
ऐप पर पढ़ें

फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी और कर्ज माफी समेत कई मांगों को लेकर दिल्ली कूच पर अड़े पंजाब के किसान संगठनों की चंडीगढ़ में चौथे दौर की वार्ता देर रात खत्म हो गई। इसमें केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा, पीयूष गोयल व नित्यानंद राय के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी शामिल हुए। बैठक चंडीगढ़ के सेक्टर-26 स्थित महात्मा गांधी राज्य लोक प्रशासन संस्थान परिसर में हुई। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बैठक के बाद पत्रकारों को बताया कि कई घंटे चली आज की वार्ता में कई मुद्दों पर सार्थक सकारात्मक सोच के साथ चर्चा हुई है, जिसका नतीजा अच्छा निकलेगा।

पीयूष गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भाजपा सरकार ने लगातार किसानों के बेहतरीन के लिए काम किया है। किसान संगठनों ने पंजाब और हरियाणा में धान की खेती के कारण भूजल में आ रही गिरावट को देखते हुए पंजाब में अन्य फसलों जैसे कि दलहन और तिलहन और मक्का को प्रोत्साहन देने के लिए प्रयास किया जाए और ठोस नीति बनाई जाए ताकि किसानों की आय भी बढ़े और पंजाब और हरियाणा का भूजल भी बचे।

कुछ फसलों पर एमएसपी का प्रस्ताव
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि एक बहुत ही अद्भुत तरीका किसानों द्वारा सुझाया गया है। इसके तहत सहकारी समितियों के जरिए किसान अगर धान या अन्य पारंपरिक फसलों से दलहन तिलहन और मक्के की तरफ डायवर्सिफाई करते हैं तो उन्हें अगले 5 साल के लिए केन्द्रीय संस्थाओं के जरिए एमएसपी पर खरीद की गारंटी दी जाएगी। इसी तरह कपास की खेती के लिए भी होगा।

किसान संगठन और केंद्र सरकार चर्चा करके फैसला लेंगे: भगवंत मान
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवत सिंह मान ने कहा कि वह बैठक में पंजाब के वकील के तौर पर बैठते हैं और आज भी बड़े अच्छे माहौल में बातचीत हुई है। यह सुझाव दिया गया है कि केंद्र सरकार विदेश से जो दालें और अन्य चीजों को इंपोर्ट करती है, उनके बारे में पंजाब के किसानों को बताएं और एमएसपी पर उनकी खरीद करने की गारंटी दे दो। पंजाब के किसान पहले हरित क्रांति की तरह ही देश के भंडारों को भरने के लिए पूरी क्षमता रखते हैं। पंजाब के किसान इसको करके दिखाएंगे। उन्होंने कहा कि कई ऐसे ही अन्य भी कुछ प्रस्ताव रखे गए हैं जिन पर किसान संगठन और केंद्र सरकार चर्चा करके फैसला लेंगे।

रिपोर्ट: मोनी देवी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें