More than 10 thousand medicines will be cheap pharmaceutical companies took this big decision - 10 हजार से ज्यादा दवाएं होंगी सस्ती, दवा कंपनियां ने लिया ये बड़ा फैसला DA Image
10 दिसंबर, 2019|1:31|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

10 हजार से ज्यादा दवाएं होंगी सस्ती, दवा कंपनियां ने लिया ये बड़ा फैसला

sample of medicine

देश में बिकने वाली सभी गैर अनुसूचित दवाओं पर 30 फीसदी का ट्रेड मार्जिन लागू करने को लेकर सरकार और फार्मा कंपनियों के बीच सहमति बन गई है। हाल में हुई एक बैठक में दवा कंपनियों ने सरकार के प्रस्ताव पर अपनी सहमति दे दी है। इस फैसले से उन 10 हजार से अधिक दवाओं की कीमत में कमी आएगी, जो अब तक मूल्य नियंत्रण से बाहर हैं।

माना जा रहा है कि इस कदम से बाजार में उपलब्ध 80 फीसदी दवाओं के दाम में कमी आएगी। मंत्रालय का तर्क था कि किसी भी कारोबार के लिए 30 फीसदी लाभ अच्छा माना जाता है। ऐसे में सभी दवाओं पर प्रॉफिट मार्जिन की अधिकतम सीमा 30 फीसदी ही रखा जाएगा। किसी दवा की लागत का आकलन करने के लिए दवा पर आए लागत एवं कंपनी की ओर से शोध पर किए जा रहे खर्च को भी शामिल किया जाएगा।

पिछले हफ्ते एनपीपीए, डीजीसीआई और फार्मा कंपनियों के प्रतिनिधियों के बैठक में इसे लेकर फैसला लिया गया। दवा कंपनियों ने 30 फीसदी के मार्जिन को स्वीकार कर लिया है। इस तरह किसी भी प्रकार के मूल्य नियंत्रण से बाहर 10,600 दवाएं कीमतों में अब कमी आ सकती है।

हिन्दुस्तान ने किया था खुलासा 
‘हिन्दुस्तान’ ने 29 मई के अंक में खुलासा किया था कि सरकार ने दवाओं पर 30 फीसदी मार्जिन रखने को अपने 100 दिन के एजेंडे में शामिल किया है। इस साल फरवरी महीने में सरकार ने कैंसर की 42 गैर-अनुसूचित दवाओं के लिए प्रॉफिट मार्जिन को 30 फीसदी पर सीमित कर दिया था। इस फैसले से 72 फॉर्मूलेशन के 355 दवाओं के ब्रांड की कीमत नियंत्रित हुई थी। इन दवाओं की कीमत में 85 फीसदी तक की कमी आई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:More than 10 thousand medicines will be cheap pharmaceutical companies took this big decision