ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमोदी ने 758 बार लिया खुद का नाम, 224 बार मुस्लिमों का जिक्र; खरगे ने साधा निशाना

मोदी ने 758 बार लिया खुद का नाम, 224 बार मुस्लिमों का जिक्र; खरगे ने साधा निशाना

मल्लिकार्जुन खरगे ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना नाम 758 बार लिया है, मंदिर के बारे में 421 बार बात की है और मुस्लिम, पाकिस्तान और अल्पसंख्यकों का 224 बार उल्लेख किया है।

मोदी ने 758 बार लिया खुद का नाम, 224 बार मुस्लिमों का जिक्र; खरगे ने साधा निशाना
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 30 May 2024 03:38 PM
ऐप पर पढ़ें

शनिवार को होने वाले लोकसभा इलेक्शन 2024 के सातवें और अंतिम चरण के मतदान के लिए आज चुनाव प्रचार थम जायेगा। आखिरी दिन विरोधी पार्टियों ने एक दूसरे पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना नाम 758 बार लिया है, मंदिर के बारे में 421 बार बात की है और मुस्लिम, पाकिस्तान और अल्पसंख्यकों का 224 बार उल्लेख किया है, लेकिन पिछले पंद्रह दिनों में एक बार भी महंगाई और बेरोजगारी के बारे में नहीं बोला।

खरगे ने गुरुवार को यह भी दावा किया कि 4 जून को लोग एक नई, वैकल्पिक सरकार के लिए फैसला देंगे और इंडिया गठबंधन बहुमत की सरकार बनाएगा। उन्होंने कहा, "अगर हम भाजपा के अभियान को देखें और प्रधानमंत्री के बारे में बात करें, तो पिछले 15 दिनों में उन्होंने 232 बार कांग्रेस का जिक्र किया। उन्होंने 758 बार खुद का नाम (मोदी) लिया और 573 बार उन्होंने इंडिया गठबंधन और विपक्षी दलों के बारे में बात की। लेकिन महंगाई और बेरोजगारी के बारे में एक बार भी नहीं बोले। यह दर्शाता है कि उन्होंने महत्वपूर्ण मुद्दों को एक तरफ रख दिया और अभियान में केवल अपने बारे में बात की।"

कांग्रेस अध्यक्ष ने गुरुवार को कहा, "चुनाव आयोग ने कहा था कि जाति या सांप्रदायिक आधार पर कोई अपील नहीं की जाएगी। लेकिन मोदी जी ने 421 मौकों पर मंदिर के बारे में बात की और 224 बार उन्होंने मुस्लिम, पाकिस्तान और अल्पसंख्यकों का जिक्र किया।" खरगे ने एआईसीसी मुख्यालय में लोकसभा चुनाव अभियान के लिए अपने आखिरी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "हमें पूरा भरोसा है कि लोग नई, वैकल्पिक सरकार के लिए वोट देंगे। इंडिया गठबंधन बहुमत वाली सरकार बनाएगा और यह एक समावेशी, राष्ट्रवादी और विकासवादी सरकार होगी।"

कांग्रेस अध्यक्ष ने इस बात पर जोर दिया कि भारत के अगले प्रधानमंत्री का फैसला सभी गठबंधन सहयोगियों से बात करके और उनकी राय के आधार पर किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि उन्होंने कभी भी अपनी दलित पहचान के आधार पर कोई पद नहीं मांगा है। जब उनसे पूछा गया कि इंडिया गठबंधन का प्रधानमंत्री कौन होगा, तो खरगे ने कहा, "हम किसी को भी प्रधानमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट नहीं कर सकते क्योंकि हमारा गठबंधन है। हम सभी को बुलाएंगे, उनकी राय लेंगे और गठबंधन के नेता जो भी कहेंगे, उसके आधार पर प्रधानमंत्री का फैसला किया जाएगा।"

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस चुनाव में लोगों ने संविधान की रक्षा के लिए हाथ मिलाया है। खरगे ने कहा, "गांधी जी ने अहिंसा की राजनीति की, नफरत की नहीं। लेकिन मोदी जी की राजनीति नफरत से भरी है। हमारा ध्यान सभी के कल्याण पर है। यह चुनाव लोगों द्वारा धर्म, जाति, पंथ, आस्था, लिंग भाषा के मतभेदों को भुलाकर संविधान की रक्षा के लिए हाथ मिलाने के लिए याद किया जाएगा। प्रधानमंत्री और भाजपा ने कई मौकों पर लोगों को गुमराह करने की कोशिश की। हमने मुद्दों पर वोट मांगे।"

उन्होंने महात्मा गांधी के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की टिप्पणी को लेकर उन पर निशाना साधा और कहा कि या तो प्रधानमंत्री अनजान है या फिर उन्होंने पढ़ा नहीं है। उनका कहना था, "सारी दुनिया महात्मा गांधी को जानती है। संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय के सामने उनकी प्रतिमा लगी है। दुनिया के बहुत सारे देशों में महात्मा गांधी की प्रतिमाएं स्थापित हैं।" कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि महात्मा गांधी, उनके काम के बारे में पता नहीं है तो शायद संविधान के बारे में भी पता नहीं होगा। उन्होंने कहा कि चार जून के बाद प्रधानमंत्री को महात्मा गांधी की जीवनी पढ़नी चाहिए।