Saturday, January 22, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशपुतिन संग UP को बड़ा तोहफा देंगे पीएम मोदी, 5 लाख AK-203 राइफल का होगा उत्पादन; सुरक्षाबलों को मिलेगा अचूक हथियार

पुतिन संग UP को बड़ा तोहफा देंगे पीएम मोदी, 5 लाख AK-203 राइफल का होगा उत्पादन; सुरक्षाबलों को मिलेगा अचूक हथियार

पीटीआई,नई दिल्लीSudhir Jha
Sat, 04 Dec 2021 10:19 PM
पुतिन संग UP को बड़ा तोहफा देंगे पीएम मोदी, 5 लाख AK-203 राइफल का होगा उत्पादन; सुरक्षाबलों को मिलेगा अचूक हथियार

इस खबर को सुनें

मोदी सरकार ने रूस के साथ मिलकर 5 लाख AK 203 कलाश्निकोव राइफलों के उत्पादन को मंजूरी दे दी है। 5 हजार करोड़ रुपए की इस डील की आधिकारिक घोषणा सोमवार को पीएम मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच मुलाकात के बाद की जाएगी। समझौते के तहत भारत और रूस के जॉइंट वेंचर में इन राइफलों का उत्पादन उत्तर प्रदेश के अमेठी में किया जाएगा।   

सूत्रों ने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्यॉरिटी (CCS) ने बुधवार को इस डील पर मुहर लगाई। इससे पहले डिफेंस ऐक्वजिशन काउंसिल (DAC) ने भी इसे अपनी मंजूरी दे दी थी। एक सूत्र ने कहा, ''रक्षा उत्पादन के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में बड़े प्रयास के तहत सरकार ने अमेठी के कोरवा में 500000 से अधिक AK-203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन की योजना को मंजूरी दी है।''

पिछले साल रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के मॉस्को दौरे पर दोनों देशों ने समझौते को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी। जॉइंट वेंचर इन राइफलों के निर्यात की संभावना भी तलाशेगा।  ये 7.62 X 39एमएम कैलिबर एके-203 (असॉल्ट कालाश्निकोव-203) राइफल तीन दशक पहले शामिल सेवा में जारी इंसास राइफल की जगह लेंगी। सूत्रों ने बताया कि एके-203 असॉल्ट राइफल, 300 मीटर की प्रभावी रेंज के साथ, हल्की, मजबूत और प्रमाणित तकनीक के साथ आसानी से उपयोग में लाई जा सकने वाली आधुनिक असॉल्ट राइफल हैं। ये वर्तमान और परिकल्पित अभियान संबंधी चुनौतियों का पर्याप्त रूप से सामना करने के लिए सैनिकों की युद्ध क्षमता को बढ़ाएंगी।

ये आतंकवाद और उग्रवाद रोधी अभियानों में भारतीय सेना की परिचालन प्रभावशीलता को बढ़ाएंगी। उन्होंने बताया कि यह परियोजना इंडो-रशियन राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड (आईआरआरपीएल) नामक एक विशेष प्रयोजन के संयुक्त उद्यम द्वारा कार्यान्वित की जाएगी। यह भारत के तत्कालीन ओएफबी-आयुध निर्माणी बोर्ड (अब एडवांस्ड वेपन्स एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड (एडब्ल्यूईआईएल) और म्यूनिशन्स इंडिया लिमिटेड (एमआईएल) तथा रूस के रोसोबोरोनएक्सपोर्ट (आरओई) और कालाश्निकोव के साथ बनाया गया है।

epaper

संबंधित खबरें