DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  दिल्ली के सरकारी स्कूल पहुंची अमेरिका की फर्स्ट लेडी मिलानिया ट्रंप, बोलीं- दिन की शुरुआत इससे अच्छी नहीं हो सकती
देश

दिल्ली के सरकारी स्कूल पहुंची अमेरिका की फर्स्ट लेडी मिलानिया ट्रंप, बोलीं- दिन की शुरुआत इससे अच्छी नहीं हो सकती

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Mrinal
Tue, 25 Feb 2020 02:08 PM
दिल्ली के सरकारी स्कूल पहुंची अमेरिका की फर्स्ट लेडी मिलानिया ट्रंप, बोलीं- दिन की शुरुआत इससे अच्छी नहीं हो सकती

दो दिन के भारत दौरे पर आए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ उनकी पत्नी़ मिलानिया ट्रंप भी है। अमेरिका की फर्स्ट लेडी मिलानिया के भारत दौरे में दिल्ली के कुछ स्कूलों के भ्रमण भी शामिल था। आज वे इसी के लिए नानकपुरा के सर्वोदय को-एड सीनियर सेकंडरी स्कूल पहुंची हैं। यहां उनका जोरदार स्वागत हुआ और उन्होंने स्कूली बच्चों से मुलाकात की।  उत्साहित छात्रों ने मेलानिया को माला पहना कर और उनके माथे पर टीका लगा कर पारंपरिक तरीके से उनका स्वागत किया। यहां वे हैप्पीनेस क्लास में हिस्स लेने पहुंचीं। पूरी दुनिया में हैप्पीनेस क्लास जैसा कार्यक्रम होना चाहिए। यहां शिक्षक बच्चों का कौशल विकास कर रहे हैं। 

मिलानिया ने कहा कि यहां छात्रों द्वारा शानदार स्वागत के  लिए  शुक्रिया। इसके अलावा उनके स्वागत में बच्चों की प्रस्तुती पर मिलानिया बोलीं कि ऐसे कार्यक्रमों से प्रेरणा मिलती है। दिन की शुरुआत इससे अच्छी नहीं हो सकती। 

उधर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को उनके भारत दौरे के दूसरे दिन मंगलवार की सुबह राष्ट्रपति भवन में 21 तोपों की सलामी दी गई और  गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस मौके पर डोनाल्ड ट्रंप के साथ उनकी बेटी इवांका और फर्स्ट लेडी इवांक भी मौजूद थी। राष्ट्रपति भवन में ट्रंप के आने पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनका स्वागत किया। 

राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर के बाद ट्रंप महात्मा गांधी श्रद्धांजलि देने राजघाट निकल गए, जहां उन्होंने गांधी की समाधि पर पुष्प चढ़ाने के बाद विजिटर बुक में संदेश लिखा। उसके बाद वह हैदराबाद हाउस के लिए निकल गए, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच अहम बातचीत हो रही है।

भारतीय और अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार, बातचीत में दोनों नेताओं द्वारा विभिन्न द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किए जाने की उम्मीद है। इनमें व्यापार और निवेश, रक्षा एवं प्रतिरक्षा, धार्मिक स्वतंत्रता, अफगानिस्तान में तालिबान के साथ प्रस्तावित शांति समझौता तथा हिंद प्रशांत क्षेत्र में स्थिति, शामिल होने की उम्मीद है।

संबंधित खबरें