DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत दौरे पर आए माइक पोम्पियो आज PM मोदी से करेंगे मुलाकात, रूस से एस-400 मिसाइलों के सौदे पर छूट की उम्मीद

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ भारत के शीर्ष नेतृत्व के साथ बातचीत करने के लिए मंगलवार को नई दिल्ली पहुंचे। लोकसभा चुनाव के बाद यह किसी भी देश से होने वाली पहली उच्चस्तरीय यात्रा है। विदेश मंत्री एस जयशंकर और पोम्पिओ बुधवार को भारत द्वारा रूस से एस- 400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद, आतंकवाद, एच1बी वीजा, व्यापार और ईरान से तेल खरीद पर अमेरिकी प्रतिबंधों से उत्पन्न होने वाली स्थिति सहित विभिन्न मुद्दों पर बातचीत करेंगे। 

पोम्पिओ की यह यात्रा अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच जी..20 शिखर सम्मेलन के इतर होने वाली बैठक से पहले हो रही है। जी..20 शिखर सम्मेलन 28...29 जून को जापान के ओसाका में होने वाला है। पोम्पिओ जयशंकर के साथ बैठक के अलावा भारतीय विदेश मंत्री की तरफ से आयोजित भोज में भी शामिल होंगे। पोम्पिओ इसके अलावा बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात भी करेंगे।

पोम्पिओ भारतीय और अमेरिकी उद्योग जगत के लोगों से मिलेंगे और यहां स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में भाषण देंगे।  अमेरिका के विदेश मंत्री माइक आर पोम्पियो की भारत यात्रा के दौरान भारत को रूस के साथ एस-4०० मिसाइल सहित सभी लंबित हथियार सौदों को लेकर रियायत मिलने की उम्मीद है। 

वहीं, राजनयिक सूत्रों का कहना है कि रूस से एस- 400 मिसाइल रक्षा प्रणाली खरीदने के लिए अमेरिकी प्रतिबंध से छूट की शर्तों को भारत पूरा करता है और इस मुद्दे पर ट्रम्प प्रशासन ने ''काफी लचीलापन दिखाया है। उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली, मॉस्को के साथ अपने पुराने रक्षा संबंधों को ''खत्म'' नहीं कर सकता है।

बता दें कि भारत ने पिछले वर्ष अक्टूबर में 40 हजार करोड़ रुपये की लागत से मिसाइल प्रणाली खरीदने के लिए रूस से समझौता किया था। भारत ने अमेरिकी चेतावनियों को नजरअंदाज करते हुए इस समझौते को आगे बढ़ाया। सूत्रों ने बताया कि अमेरिका उन परिस्थितियों से अच्छी तरह वाकिफ है जिनके कारण वह एस-400 जैसी प्रणाली खरीदने के लिए ''बाध्य है।
    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mike Pompeo arrives new delhi India keen to seal sanction waiver on S-400