ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशनूंह के नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक की तारीख तय, इस बार महिलाओं और बच्चों की नो एंट्री; जानें वजह

नूंह के नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक की तारीख तय, इस बार महिलाओं और बच्चों की नो एंट्री; जानें वजह

नूंह के नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक की तारीख तय हो गई है। विश्व हिन्दू परिषद ने बताया कि इस बार महिलाओं और बच्चों के प्रवेश पर पाबंदी रहेगी। विहिप ने इसकी वजह भी बताई है।

नूंह के नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक की तारीख तय, इस बार महिलाओं और बच्चों की नो एंट्री; जानें वजह
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Wed, 10 Jul 2024 06:12 PM
ऐप पर पढ़ें

Mewat Nalhar Shiv Mandir Jalabhishek: पिछले साल नूंह के नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक के दौरान हुई हिंसक घटना से सबक लेते हुए विश्व हिंदू परिषद नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक की तैयारी कर रहा है। सोनीपत के राधा कृष्ण आश्रम के मठाधीश स्वामी दयानंद सरस्वती महाराज ने एक प्रेस वार्ता कर पत्रकारों को बताया कि सावन के पहले सोमवार 22 जुलाई को नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक किया जाएगा, जिसकी तैयारियां की जा रही हैं। इस बार बच्चों और महिलाओं पर प्रतिबंध रहेगा। किसी को भी कोई हथियार ले जाने की इजाजत नहीं दी गई है। सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेवारी बजरंग दल द्वारा की जाएगी। सरकार और प्रशासन को भी इसकी सूचना दे दी गई है। 

भड़काऊ बयानबाजी पर रोक
सरस्वती महाराज ने कहा कि 22 जुलाई को बृजमंडल यात्रा के बाद नल्हड़ शिव मंदिर में जलाभिषेक करेंगे।इस बार संतों की अगुवाई में यात्रा होगी। भड़काऊ बयानबाजी पर रोक लगा दी गई है। पिछली बार जो हिंसक घटना हुई उसमें  सरकार की भी कुछ कमी रही हैं और इस बार सरकार से बातचीत की जा रही है। उन्होंने कहा कि यात्रा शांतिपूर्ण तरीके से रहेगी। पिछली बार कई आपत्तिजनक बयान भी हिंसक घटना का कारण बने, लेकिन इस बार कोई भी हिंसा घटना न हो, इसकी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। 

पुलिस प्रशासन अलर्ट 
नूंह (मेवात) जिले में ब्रजमंडल शोभा यात्रा को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट हो गया है। हालांकि अभी तक इसके लिए प्रशासन से कोई अनुमति किसी ने नहीं मांगी है, लेकिन कुछ संगठन के पदाधिकारियों ने इस यात्रा को 22 जुलाई को निकालने की बात कही है। नूंह के नल्हड़ प्राचीन शिव मंदिर में जलाभिषेक के लिए हरिद्वार से गंगाजल लाया गया है। फिलहाल गंगाजल को सेक्टर 10ए श्री राधा कृष्ण मंदिर में रखा गया है। 22 जुलाई को गुड़गांव से ही गंगाजल लेकर हिंदू संगठनों से जुड़े लोग व साधु संत नूंह जाएंगे।

पिछले साल भड़की हिंसा में हुई थी 7 लोगों की मौत
पिछले साल 31 जुलाई को हुई इस यात्रा के दौरान भड़की हिंसा के बाद दक्षिण हरियाणा के कई जिलों में तनाव का माहौल पैदा हो गया था। कई जिलों में हिंसा हुई थी। इस हिंसा में दो होमगार्ड सहित सात लोगों की जान चली गई थी। 90 लोग घायल हुए थे। 

रिपोर्ट: मोनी देवी