ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमुसलमानों की तमाम निशानियां खत्म करना चाहती है बीजेपी; हिजाब विवाद पर भड़की महबूबा मुफ्ती

मुसलमानों की तमाम निशानियां खत्म करना चाहती है बीजेपी; हिजाब विवाद पर भड़की महबूबा मुफ्ती

हिजाब को लेकर कर्नाटक में जारी विवाद पूरे देश में फैल गई है। इस विवाद को लेकर विपक्ष लगातार बीजेपी पर हमलावर है। इसी बीच पीडीपी प्रमुख महबूबा मफ्ती ने भी बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। महबूबा मुफ्ती ने...

मुसलमानों की तमाम निशानियां खत्म करना चाहती है बीजेपी; हिजाब विवाद पर भड़की महबूबा मुफ्ती
लाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 13 Feb 2022 04:36 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

हिजाब को लेकर कर्नाटक में जारी विवाद पूरे देश में फैल गई है। इस विवाद को लेकर विपक्ष लगातार बीजेपी पर हमलावर है। इसी बीच पीडीपी प्रमुख महबूबा मफ्ती ने भी बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मुझे डर है कि बीजेपी सिर्फ हिजाब पर नहीं रुकेगी। वो मुसलमानों तमाम निशानियां खत्म करना चाहते हैं। महबूबा यहीं नहीं रुकी। उन्होंने कहा कि   भारतीय मुसलमानों के लिए सिर्फ भारतीय होना ही काफी नहीं है, उन्हें भी बीजेपी होना जरूरी है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक श्रीनगर में रविवार को महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर एक राजनीतिक मामला है लेकिन वे (भाजपा) इसे एक सामुदायिक मामला बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर राजनीतिक मसला है। धारा 370 खत्म करने से यह मसला सुलझा नहीं बल्कि और पेचीदा हुआ है। 

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को आज नहीं तो कल इसे लेकर पाकिस्तान से बात करनी पड़ेगी। यह सही है कि जितना जम्मू-कश्मीर में मुश्किलें और खून बहता है उतना BJP को फायदा होता है।

वहीं, हिजाब विवाद को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि मुल्क़ हर एक के लिए बराबर है आपको हक़ है कि आप क्या पहनना, क्या खाना और कैसे रहना चाहता हैं, सबका अपना मज़हब है, जो मज़हब पर हमला किया जा रहा है ये कुछ कट्टरपंथी हैं जो चाहते हैं कि ये करके वे चुनाव जीत जाए।

कर्नाटक में सोमवार से खुलेंगे स्कूल

उधर, कर्नाटक के उडुपी जिला प्रशासन ने जिले में सभी हाईस्कूलों के आसपास के इलाकों में सोमवार से लेकर 19 फरवरी तक दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है। स्कूलों के सोमवार से फिर से खुलने के साथ इस कदम को एहतियाती उपाय के तौर पर देखा जा रहा है। राज्य सरकार ने हिजाब-भगवा शॉल विवाद के मद्देनजर स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया था। यह आदेश 14 फरवरी को सुबह छह बजे से 19 फरवरी की शाम छह बजे तक लागू रहेगा।

जिला पुलिस अधीक्षक ने उपायुक्त एम कुर्मा राव से हाईस्कूलों के आसपास के 200 मीटर के दायरे में धारा 144 लगाने का अनुरोध किया था। आदेश के अनुसार, स्कूलों के इस दायरे के भीतर पांच या इससे अधिक लोगों के एकत्रित होने पर रोक रहेगी। प्रदर्शन तथा रैलियों पर प्रतिबंध रहेगा। नारेबाजी करने, गीत गाने या भाषण देने पर सख्त पाबंदी रहेगी। 

हाईस्कूलों के फिर से खुलने पर बोम्मई ने शांति बहाल होने का विश्वास जताया

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने राज्यभर में 10वीं कक्षा तक के हाईस्कूलों के फिर से खुलने से एक दिन पहले रविवार को विश्वास जताया कि शांति और सामान्य स्थिति बहाल होगी। राज्य में हिजाब को लेकर चल रहे विवाद के कारण इन स्कूलों को बंद कर दिया गया था। बोम्मई ने कहा कि प्री-यूनिवर्सिटी और डिग्री कॉलेजों को फिर से खोलने के संबंध में फैसला स्थिति का आकलन करने के बाद लिया जाएगा।