ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशआर्टिकल 370 पर SC के फैसले से पहले महबूबा मुफ्ती-उमर अब्दुल्ला नजरबंद? उपराज्यपाल का इनकार

आर्टिकल 370 पर SC के फैसले से पहले महबूबा मुफ्ती-उमर अब्दुल्ला नजरबंद? उपराज्यपाल का इनकार

एनसी प्रवक्ता सारा हयात शाह ने उमर अब्दुल्ला के घर के हरे रंग के गेट की तस्वीरें शेयर की हैं। उन्होंने कहा, 'उमर अब्दुल्ला को उनके घर में बंद कर दिया गया है। क्या यह लोकतंत्र है?'

आर्टिकल 370 पर SC के फैसले से पहले महबूबा मुफ्ती-उमर अब्दुल्ला नजरबंद? उपराज्यपाल का इनकार
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,श्रीनगरMon, 11 Dec 2023 12:07 PM
ऐप पर पढ़ें

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने को लेकर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले नजरबंदी के दावे किए गए। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDD) ने कहा कि उसकी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को सोमवार को नजरबंद कर दिया गया है। पार्टी ने एक्स पर पोस्ट में कहा, 'सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले पुलिस ने पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती के आवास के दरवाजे सील कर दिए और उन्हें अवैध रूप से नजरबंद कर दिया है।' नेशनल कॉन्फ्रेंस की ओर से भी यह दावा किया कि पार्टी के सीनियर नेता उमर अब्दुल्ला को उनके घर के अंदर बंद कर दिया गया है। 

हालांकि, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने इस तरह के दावों को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि किसी की भी नजरबंदी या गिरफ्तारी की खबर पूरी तरह से बेबुनियाद है। एनसी प्रवक्ता सारा हयात शाह ने उमर अब्दुल्ला के घर के हरे रंग के गेट की तस्वीरें पोस्ट की हैं। उन्होंने कहा, 'उमर अब्दुल्ला को उनके घर में बंद कर दिया गया है। क्या यह लोकतंत्र है?' जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम ने एक्स पर लिखा, 'उपराज्यपाल साहब, जो जंजीरें मेरे गेट पर लगाई गई हैं, उन्हें मैंने नहीं लगाया। आखिर आप अपने पुलिस बल की ओर से किए गए काम से इनकार क्यों कर रहे हैं। ऐसा भी हो सकता है कि आपको यह पता ही न हो कि आपकी पुलिस क्या कर रही है? इनमें कौन सी बात सही है? क्या आप बेईमान हैं या आपकी पुलिस आपसे स्वतंत्र होकर काम करने लगी है?'

नजरबंदी या गिरफ्तारी की बातें निराधार: उपराज्यपाल 
उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि इस तरह की बातें पूरी तरह से निराधार हैं। उन्होंने एक्स पर पोस्ट करके कहा, 'पूरे जम्मू-कश्मीर में किसी को भी नजरबंद या गिरफ्तार नहीं किया गया है। यह अफवाह फैलाने का प्रयास है।' सिन्हा ने आगे कहा कि वह पूरी जिम्मेदारी के साथ कह रहे हैं कि जम्मू-कश्मीर में कहीं भी राजनीतिक कारणों से किसी को नजरबंद या गिरफ्तार नहीं किया गया है।

श्रीनगर और आसपास के इलाकों में कड़ी सुरक्षा 
बता दें कि जम्मू-कश्मीर के संवेदनशील हिस्सों खासकर श्रीनगर और आसपास के इलाकों में सुरक्षा कड़ी कर दी है। अधिकारियों ने कहा कि उच्च सुरक्षा वाले गुपकर की ओर जाने वाली सड़क पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। कश्मीर में कड़ी सुरक्षा के विपरीत जम्मू में सुरक्षा स्थिति और पुलिस व अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती लगभग सामान्य रही। कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक की ओर से सभी सुरक्षा बलों और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को परामर्श जारी किया गया। इसमें कहा गया कि अशांत क्षेत्रों में वीआईपी और सुरक्षा प्राप्त व्यक्तियों की सुरक्षा में शामिल या उन्हें ले जाने वाले वाहनों की आवाजाही से भी बचा जाना चाहिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें