DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मायावती ने जन्मदिन पर मांगा गठबंधन की जीत का रिटर्न गिफ्ट, पढ़ें 10 खास बातें

मायावती ने पुराने मतभेद भुलाकर आगामी लोकसभा चुनाव में इन पार्टियों के गठबंधन के प्रत्याशियों को जिता

1 / 2मायावती ने पुराने मतभेद भुलाकर आगामी लोकसभा चुनाव में इन पार्टियों के गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताने की अपील की।

बसपा सुप्रीमो मायावती (AFP फाइल फोटो)

2 / 2बसपा सुप्रीमो मायावती (AFP फाइल फोटो)

PreviousNext

बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Chief Mayawati) ने मंगलवार को अपने जन्मदिन के मौके पर प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। मायावती ने सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance) के बारे में जिक्र करते हुए कहा कि इस गठबंधन से सभी विरोधियों की नींद उड़ी हुई है। पढ़ें मायावती की प्रेस कांफ्रेंस की 10 खास बातें:

1- मायावती ने जन्मदिन के मौके पर कहा कि हमारे गठबंधन से विरोधियों की नींद उड़ी हुई है। बसपा और सपा के लोग साथ मिलकर काम करें। बीजेपी को हराने के लिए निजी स्वार्थ को भुला आगे बढ़ना होगा। मायावती ने पुराने मतभेद भुलाकर आगामी लोकसभा चुनाव में इन पार्टियों के गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताने की अपील की। 

मायावती ने बसपा कार्यकर्ताओं से कहा, गिले शिकवे भूल गठबंधन को दिलाएं ऐतिहासिक जीत

2- केंद्र सरकार के नोटबंदी और जीएसटी के फैसले की वजह से और भी दयनीय स्थिति हो गई है। इसका असर देश की अर्थव्यवस्था पर काफी पड़ा है। इन सभी से लाभ देश के धन्नासेठों को हुआ।

3- बसपा सुप्रीमो ने कहा कि लोकसभा में जीत हमारे जन्मदिन का तोहफा होगी।

4- हाल ही में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के चुनावी परिणाम ने बीजेपी को सबक सिखाया है। साथ ही राजनीतिक संदेश केवल बीजेपी को ही नहीं, बल्कि कांग्रेस को भी दिया है। इन्हें समझ लेना चाहिए कि लोकलुभावन, जुमलों से दाल नहीं गलने वाली है।

मायावती: साल 1995 में पहली बार बनीं UP सीएम, 4 बार रह चुकी हैं मुख्यमंत्री

5- मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में सवर्ण आरक्षण का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी सवर्णों को दिए गए आरक्षण का स्वागत करते हैं। हम चाहते हैं कि मुसलमानों को भी आर्थिक आधार पर आरक्षण दिया जाए। 

6- जुमे की नामज में भी सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल किया गया। मुसलमानों की नमाज पर भी रोक लगाने की कोशिश की गई। 

7- पीएम नरेंद्र मोदी ताबड़तोड़ रैली कर रहे हैं। वे अपनी रैली में किस्म-किस्म के वादे कर रहे हैं।

8- अखिलेश यादव के खिलाफ सीबीआई का गलत इस्तेमाल किया गया। 

9- बीजेपी ने बजरंग बली को जाति में बांटा और धर्म की राजनीति की है।

लोकसभा चुनाव 2019ः आजम ने कहा- इस बार भाजपा का सत्ता से जाना तय

10- बीजेपी अपने पक्ष में हवा बनाने के लिए नाटक कर रही है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:mayawati birthday press conference bsp chief says loksabha election win will be gift for us