mar kar bhee 3 logon ko Zindagi de gaya phool bechne vala 21 sal ka jasavant Delhi - मिसाल: मरकर भी 3 लोगों को जिंदगी दे गया 21 साल का जसवंत, जानें पूरा मामला DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिसाल: मरकर भी 3 लोगों को जिंदगी दे गया 21 साल का जसवंत, जानें पूरा मामला

jaswant

नई दिल्ली में हादसे में 21 वर्षीय जसवंत की जिंदगी तो नहीं बच सकी, लेकिन उसके ब्रेन डेड होने के बाद उसके अंगों से तीन मरीजों को नई जिंदगी मिली है। महज 21 साल की उम्र में जान गंवाने वाले जसवंत की एक किडनी आरएमएल अस्पताल में मरीज को प्रत्यारोपित की गई, जबकि लिवर और दूसरी किडनी एम्स में मरीजों को दी गई है।

अस्पताल के न्यूरोसर्जरी विभाग के प्रमुख डॉक्टर एल.एन गुप्ता ने बताया कि जसवंत मूल रूप से झांसी का रहने वाला था। वह झंडेवालान में फूलों की दुकान पर काम करता था। मंगलवार को ऊंचाई से गिरने से सिर में गंभीर चोट आई थी। उसे आरएमएल लाया गया। शाम 3 बजकर 35 मिनट वह ब्रेन डेड हो गया।

काउंसलरों ने परिवार को मनाया : अस्पताल के प्रत्यारोपण काउंसलरों को जब जसवंत के ब्रेन डेड होने का पता चला तो उन्होंने उसके परिजनों से बात की। काउंसलर प्रवीन और रीना ने परिवार को अंगदान के लिए राजी किया। आरएमएल के नेफ्रोलोजी विभाग के प्रमुख डॉक्टर हिमांशु महापात्रा ने बताया कि एम्स से आई टीम ने लिवर निकाला और आरएमएल की टीम ने दोनों किडनियां निकाली।

तीन मरीजों को लाभ : एक किडनी आरएमएल में ही मौजूद 46 वर्षीय मरीज के शरीर में प्रत्यारोपित की गई। वहीं लिवर और दूसरी किडनी एम्स स्थित दो मरीजों को दी गईं।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:mar kar bhee 3 logon ko Zindagi de gaya phool bechne vala 21 sal ka jasavant Delhi