ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशMani Shankar Aiyar: मणिशंकर अय्यर पहले बोले पाक की इज्जत करो, अब चीन के आक्रमण को बता दिया कथित

Mani Shankar Aiyar: मणिशंकर अय्यर पहले बोले पाक की इज्जत करो, अब चीन के आक्रमण को बता दिया कथित

Mani Shankar Aiyar: 'फॉरेन कॉरेस्पोंडेंट्स क्लब' में एक कार्यक्रम के कथित वीडियो के अनुसार, अय्यर ने एक किस्सा सुनाते हुए कहा, '...अक्टूबर 1962 में, चीनियों ने कथित तौर पर भारत पर आक्रमण किया।'

Mani Shankar Aiyar: मणिशंकर अय्यर पहले बोले पाक की इज्जत करो, अब चीन के आक्रमण को बता दिया कथित
Nisarg Dixitएजेंसियां,नई दिल्लीWed, 29 May 2024 10:46 AM
ऐप पर पढ़ें

Mani Shankar Aiyar News: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने एक बार फिर विवादित बयान दे दिया है, जिससे पार्टी ने दूरी बना ली है। हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने 1962 के युद्ध को लेकर कह दिया कि चीन ने भारत पर 'कथित तौर पर' आक्रमण किया था। हालांकि, उन्होंने इस बयान के लिए माफी मांग ली है। इससे पहले उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान के पास परमाणु बम है।

'फॉरेन कॉरेस्पोंडेंट्स क्लब' में एक कार्यक्रम के कथित वीडियो के अनुसार, अय्यर ने एक किस्सा सुनाते हुए कहा, '...अक्टूबर 1962 में, चीनियों ने कथित तौर पर भारत पर आक्रमण किया।' अय्यर ने एक संक्षिप्त बयान में कहा, 'आज शाम 'चीनी आक्रमण' से पहले गलती से 'कथित' शब्द का इस्तेमाल करने के लिए मैं पूरी तरह से माफी मांगता हूं।' अतीत में अपनी टिप्पणियों से विवादों को जन्म दे चुके अय्यर ने यह टिप्पणी एक पुस्तक 'नेहरूज फर्स्ट रिक्रूट्स' के विमोचन के मौके पर की। 

कांग्रेस ने भाजपा को घेरा
कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि अय्यर ने बाद में 'गलती से' 'कथित आक्रमण' शब्द का इस्तेमाल करने के लिए 'स्पष्ट रूप से' माफी मांगी है, और पार्टी 'मूल शब्दावली' से खुद को अलग करती है। रमेश ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर मई 2020 में चीन की घुसपैठ के लिए उसे 'क्लीन चिट' देने का भी आरोप लगाया। 

भाजपा ने कांग्रेस पर उठाए सवाल
भाजपा के आईटी विभाग के प्रमुख अमित मालवीय ने अय्यर की टिप्पणी को लेकर कांग्रेस की आलोचना की। उन्होंने 'एक्स' पर पोस्ट किया, 'मणिशंकर अय्यर ने नेहरूज फर्स्ट रिक्रूट्स नामक पुस्तक के विमोचन के दौरान एफसीसी में बोलते हुए 1962 में चीनी आक्रमण को 'कथित' बताया। यह 'रिवीजनिज्म' का एक निर्लज्ज प्रयास है।' 

उन्होंने आरोप लगाया, 'नेहरू ने चीन के पक्ष में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट पर भारत का दावा छोड़ दिया, राहुल गांधी ने एक गुप्त समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए, राजीव गांधी फाउंडेशन ने चीनी दूतावास से धन लिया और चीनी कंपनियों के लिए बाजार पहुंच की सिफारिश करते हुए रिपोर्ट प्रकाशित की, उनके आधार पर, सोनिया गांधी की संप्रग ने चीनी सामानों के लिए भारतीय बाजार खोल दिया, जिससे एमएसएमई को नुकसान पहुंचा और अब कांग्रेस नेता अय्यर चीनी आक्रमण पर लीपा-पोती करना चाहते हैं, जिसके बाद से चीन ने 38,000 वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्र पर अवैध कब्जा कर रखा है।'

मालवीय ने सवाल किया, 'कांग्रेस का चीनियों के प्रति प्रेम' क्या दर्शाता है? विवाद के मद्देनजर रमेश ने सफाई दी, 'उनकी (अय्यर की) उम्र को ध्यान में रखा जाना चाहिए। कांग्रेस उनके मूल कथन से खुद को अलग करती है।'

साल 1962 में अक्टूबर-नवंबर के बीच भारत और चीन में युद्ध हुआ। उस दौरान चीनी सैनिकों ने मैकमोहन लाइन के पास हमला कर दिया था और भारत के अक्साई चिन इलाके पर कब्जा कर लिया था।