ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशपार्टी लाइन से अलग चल रहे कांग्रेस सांसद का ट्वीट, शेर को जंजीर से बांधने की कोशिश होती है तो जंजीर टूट जाती है

पार्टी लाइन से अलग चल रहे कांग्रेस सांसद का ट्वीट, शेर को जंजीर से बांधने की कोशिश होती है तो जंजीर टूट जाती है

तिवारी ने रक्षा संबंधित परामर्श समिति के सदस्य के नाते सोमवार को अग्निपथ योजना की वापसी की मांग करने वाले छह विपक्षी सांसदों के एक बयान पर हस्ताक्षर नहीं किए थे।

पार्टी लाइन से अलग चल रहे कांग्रेस सांसद का ट्वीट, शेर को जंजीर से बांधने की कोशिश होती है तो जंजीर टूट जाती है
Ankit Ojhaएजेंसी,नई दिल्लीThu, 14 Jul 2022 12:46 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें


 कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने बुधवार को ऐसा ट्वीट किया जिसका मतलब उन्होंने साफ नहीं किया। उन्होंने कहा कि जब शेर को जंजीर से बांधने की कोशिश की जाती है तो एक ही चीज होती है कि जंजीर टूट जाती है। तिवारी ने कुछ दिन पहले ही अग्निपथ योजना के मुद्दे पर अपनी पार्टी से अलग रुख व्यक्त किया था।
     
उन्होंने ट्वीट किया, ''शेर को जंजीर से बांधने की कोशिश में हर बार एक ही चीज होती है कि जंजीर टूट जाती है।'' तिवारी का यह ट्वीट ऐसे समय में आया है जब नए संसद भवन की छत पर सोमवार को राष्ट्रीय प्रतीक का अनावरण किया गया और विपक्ष ने सरकार पर इसमें शेरों के स्वरूप को बदलकर इसे बिगाड़ने का आरोप लगाया। भाजपा ने विपक्ष की आलोचना को खारिज कर दिया है।
     
तिवारी ने इससे पहले ''मनीष तिवारी को कांग्रेस का सुब्रमण्यम स्वामी कहा जा रहा है'' शीर्षक वाले लेख पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्विटर पर लिखा था, ''इस तरह की बकवास करने वाले सज्जन को पता होना चाहिए कि स्वामी यदि कुछ नहीं तो भी विकट विरोधी हैं।''
     
तिवारी ने रक्षा संबंधित परामर्श समिति के सदस्य के नाते सोमवार को अग्निपथ योजना की वापसी की मांग करने वाले छह विपक्षी सांसदों के एक बयान पर हस्ताक्षर नहीं किए थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जब रक्षा पर संसदीय परामर्श समिति के सदस्यों के सामने प्रस्तुतिकरण दिया तो शक्तिसिंह गोहिल, रजनी पाटिल (दोनों कांग्रेस से), सुप्रिया सुले (राकांपा), सौगत राय, सुदीप बंदोपाध्याय (दोनों तृणमूल कांग्रेस) और ए डी सिंह (राजद) ने उन्हें हाथ से लिखा नोट दिया।
    
 सूत्रों ने कहा था कि अग्निपथ योजना की सार्वजनिक तारीफ करने वाले और इसे सशस्त्र बलों में अत्यावश्यक सुधार बताने वाले तिवारी ने अपनी पार्टी से विरोधाभासी रुख अपनाया था। कांग्रेस ने तिवारी के बयान को निजी बताते हुए कहा था कि यह पार्टी का रुख नहीं झलकाता। कांग्रेस ने सशस्त्र बलों में अग्निपथ भर्ती योजना का विरोध किया है, वहीं तिवारी ने कहा कि यह समय की जरूरत है क्योंकि कई अन्य देशों की सेनाओं ने भी ऐसा किया है।
    
 सूत्रों ने यह भी कहा था कि तिवारी ने बैठक में पूछा कि क्या योजना किसी भी तरह पेंशन विधेयक को प्रभावित करती है या नहीं। तिवारी कांग्रेस के जी23 समूह के  सदस्य हैं जिसने संगठन में आमूल-चूल बदलाव की जरूरत बताई है और पार्टी नेतृत्व के कुछ फैसलों की आलोचना की है। पूर्व केंद्रीय मंत्री तिवारी पंजाब की आनंदपुर साहिब लोकसभा सीट से सदस्य हैं।

epaper