अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मंदसौर गैंगरेपः दरिंदों ने 7 साल की बच्ची को दिए अनगिनत जख्म, 10 डॉक्टरों की टीम कर रही इलाज

मध्य प्रदेश के मंदसौर में बलात्कार के दौरान सात वर्षीय स्कूली बच्ची के साथ यौन हमलावर की वहशत के खुलासे के बाद लोगों में इस घटना को लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है। मामले में गिरफ्तार 20 वर्षीय बदमाश को फांसी दिये जाने की मांग जोर पकड़ रही है। कक्षा तीन में पढ़ने वाली पीड़ित बच्ची इंदौर के शासकीय महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) के बाल शल्य चिकित्सा विभाग के वॉर्ड में भर्ती है। 

एमवायएच में बच्ची का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने आज बताया कि यौन हमलावर ने बच्ची के सिर, चेहरे और गर्दन पर धारदार हथियार से हमला किया था। इसके साथ ही, उसके नाजुक अंगों को भीषण चोट पहुंचायी थी जिसे मेडिकल जुबान में "फोर्थ डिग्री पेरिनियल टियर" कहते हैं।

उन्होंने बताया कि यौन हमले में बच्ची के बुरी तरह क्षतिग्रस्त नाजुक अंगों को दुरुस्त करने के लिये उसकी अलग-अलग सर्जरी की गयी हैं। कॉलोस्टोमी के जरिये उसके मल विसर्जन के लिये अस्थायी तौर पर अलग रास्ता बनाया गया है, जबकि एक अन्य ऑपरेशन के दौरान उसके दूसरे नाजुक अंग की शल्य चिकित्सा के जरिये मरम्मत की गयी है।  

डॉक्टर ने कहा कि फिलहाल बच्ची की हालत खतरे से बाहर है। करीब 10 डॉक्टरों का विशेषज्ञ दल उसकी सेहत पर लगातार नजर रख रहा है। उन्होंने बताया कि बच्ची को अस्पताल से छुट्टी मिलने में कम से कम दो हफ्ते लग सकते हैं। 

इस बीच, मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट के जरिये मांग की है कि मंदसौर में दरिंदगी की शिकार बच्ची को बेहतर इलाज के लिये किसी महानगर के बड़े अस्पताल में भर्ती कराया जाये और इसका पूरा खर्च प्रदेश सरकार उठाये।

पीड़ित बच्ची के हाल-चाल जानने के लिये राजनेताओं के एमवायएच पहुंचने का सिलसिला भी जारी है। मंदसौर लोकसभा सीट से भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता ने स्कूली छात्रा से बलात्कार की घटना पर नाराजगी जताते हुए एमवायएच में संवाददाताओं से कहा कि मासूम बच्चियों से बलात्कार करने वाले दरिंदों के लिये फांसी की सजा भी कम है। 

उन्होंने कहा कि बच्ची से बलात्कार और उस पर जानलेवा हमले का मुकदमा फास्ट ट्रैक अदालत में चलाया जायेगा, ताकि यौन हमलावर को जल्द से जल्द सजा दिलवायी जा सके।

मंदसौर की वरिष्ठ कांग्रेस नेता मीनाक्षी नटराजन ने कहा कि संदेह है कि स्कूली बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था, जबकि पुलिस ने मामले में अभी एक ही आरोपी को गिरफ्तार किया है। उन्होंने मांग की कि मामले की गहराई से जांच की जानी चाहिये और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कड़े कानूनी कदम उठाये जाने चाहिये।

इंदौर की भाजपा विधायक उषा ठाकुर ने कहा कि ''मंदसौर में स्कूली बच्ची से किसी वहशी की तरह बर्ताव करने वाले बलात्कारी हमलावर को बीच चौराहे पर फांसी दी जानी चाहिये और उसका अंतिम संस्कार नहीं किया जाना चाहिये।

मंदसौर में बच्ची 26 जून की शाम स्कूल की छुट्टी के बाद लापता हो गयी थी। वह 27 जून को स्कूल के पास की झाड़ियों में लहूलुहान हालत में मिली थी। मंदसौर पुलिस ने मामले में इरफान मेव उर्फ भय्यू (20) को गिरफ्तार किया है। मंदसौर के कोतवाली थाने में उसका पुराना आपराधिक रिकॉर्ड है। 

बच्ची से बलात्कार के मांमले में मंदसौर-नीमच क्षेत्र में लोगों का आक्रोश उफान पर है। वे आरोपी को फांसी दिये जाने की मांग को लेकर पिछले तीन दिन से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर: शोपियां में ग्रेनेड हमले में सेना के तीन जवान घायल

फरियादी महिला शिक्षिका की अपील पर भड़के सीएम,कहा- निलंबित करो इसे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mandsaur Rape Accused given countless wounds to the 7 year-old girl team of 10 doctors treating her