ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशपंडित की सलाह पड़ी भारी, सांप ने काटा फिर गंवानी पड़ी जीभ; हैरान कर देगा मामला

पंडित की सलाह पड़ी भारी, सांप ने काटा फिर गंवानी पड़ी जीभ; हैरान कर देगा मामला

तमिलनाडु के रहने वाले एक शख्स को ज्योतिषी की सलाह की भारी कीमत चुकानी पड़ी। पंडित की सलाह पर वह सर्प मंदिर गया था, जहां अनुष्ठान के दौरान एक सांप ने उसकी जीभ पर काट दिया।

पंडित की सलाह पड़ी भारी, सांप ने काटा फिर गंवानी पड़ी जीभ; हैरान कर देगा मामला
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,चेन्नईSun, 27 Nov 2022 09:25 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

तमिलनाडु के रहने वाले एक शख्स को ज्योतिषी की सलाह की भारी कीमत चुकानी पड़ी। पंडित की सलाह पर वह सर्प मंदिर गया था, जहां अनुष्ठान के दौरान एक सांप ने उसकी जीभ पर काट दिया। घटना के तुरंत बाद पुजारी ने शख्स की जीभ काटकर अलग कर दी। अब वह अस्पताल में भर्ती है। मामला शख्स के बुरे सपने को लेकर जुड़ा हुआ है। 

मामला तमिलनाडु के कोपिचेट्टीपलयम का बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 54 वर्षीय एक किसान राजा कई दिनों से सांप वाले सपने को लेकर परेशान चल रहा था। उसे सपना आया था कि उसे एक सांप ने काट दिया है। उसे डर सता रहा था कि कहीं सपने का उसके जीवन में कोई बुरा असर न हो। आखिरकार राजा ने ज्योतिषी के पास जाकर इलाज करने का मन बनाया। घटना 18 नवंबर की बताई जा रही है।

ज्योतिषी ने उससे कहा कि वह सर्प मंदिर जाए और वहां विशेष अनुष्ठान करके ही वह इस सपने से होने वाले बुरे असर से छुटकारा पा सकता है। ज्योतिषी की सलाह पर अमल करते हुए राजा ने ऐसा ही किया। घटना रस्म के अंत में हुई जब रसेल वाइपर प्रजाति के बेहद खतरनाक सांप ने उसे काट दिया। जानकारी के मुताबिक, राजा ने तीन बार सांप के सामने अपनी जीभ बाहर निकाली। जिसके बाद सांप ने उसकी जीभ पर काट दिया। अब के सामने किसान ने तीन बार अपनी जीभ बाहर निकाली और सांप ने उसे काट लिया।

हमले के बाद बेहोश हुए व्यक्ति को देखकर मंदिर के पुजारी ने तुरंत उसकी जीभ काट दी और उसे इलाज के लिए इरोड मणियन मेडिकल सेंटर ले गए। मणियन मेडिकल सेंटर के प्रबंध निदेशक सेंथिल कुमारन ने बताया कि डॉक्टरों ने राजा की कटी हुई जीभ का इलाज किया और उसे सांप के जहर की दवा भी दे दी है। डॉ. सेंथिल कुमारन ने कहा, "हमें राजा की जीभ काटने के बाद भी उसकी जान बचाने के लिए चार दिनों तक संघर्ष करना पड़ा।"