ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशममता बनर्जी के बस का नहीं... अमित शाह ने बता दिया बंगाल में क्या होगा 2024 का एजेंडा

ममता बनर्जी के बस का नहीं... अमित शाह ने बता दिया बंगाल में क्या होगा 2024 का एजेंडा

बंगाल दौरे पर पहुंचे अमित शाह ने बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और टीएमसी पर जोरदार हमला बोला। यही नहीं इस दौरान उन्होंने यह भी संकेत दे दिया कि 2024 में बंगाल में भाजपा क्या मुद्दे उठाएगी।

ममता बनर्जी के बस का नहीं... अमित शाह ने बता दिया बंगाल में क्या होगा 2024 का एजेंडा
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताWed, 29 Nov 2023 05:37 PM
ऐप पर पढ़ें

बंगाल दौरे पर पहुंचे अमित शाह ने बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और टीएमसी पर जोरदार हमला बोला। यही नहीं इस दौरान उन्होंने यह भी संकेत दे दिया कि 2024 लोकसभा चुनाव में बंगाल में भाजपा क्या मुद्दे उठाएगी। उन्होंने इस दौरान नागरिक संशोधन कानून का जिक्र करते हुए कहा कि इसे कोई भी रोक नहीं सकता। उन्होंने कहा कि इसे रोक पाना ममता बनर्जी के बस की बात नहीं है। मोदी सरकार इसे लागू करके रहेगी। यह देश का कानून है और ममता बनर्जी या कोई भी इसे रोक नहीं पाएगा। उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट और ममता बनर्जी की सरकारों ने मिलकर बंगाल को ही बर्बाद कर दिया है।

इस तरह अमित शाह ने साफ कर दिया कि 2024 लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा पूरी ताकत से घुसपैठ और सीएए के मुद्दे को उठाएगी। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी राज्य में घुसपैठ को रोकने में फेल रही हैं। शाह ने कहा,'जिस राज्य में इतनी ज्यादा घुसपैठ होती है। वहां क्या कोई विकास कार्य हो पाएगा?'इसीलिए ममता बनर्जी सीसीए का विरोध करती हैं। लेकिन मैं उन्हें बता देता हूं कि सीएए देश का कानून है और इसे लागू होने से कोई रोक नहीं पाएगा। हम इसे लागू करके रहेंगे। बता दें कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी ने रविवार को ही कहा था कि सीएए के तहत मार्च 2024 तक नियम तय कर लिए जाएंगे।

अब अमित शाह ने इसका जिक्र कर बता दिया है कि भाजपा इसे लेकर आक्रामक रहेगी। बता दें कि सीएए कानून का टीएमसी ने तीखा विरोध किया था। ममता बनर्जी सरकार ने तो इसे पूरी तरह से असंवैधानिक करार दिया था। इसे लेकर खूब प्रदर्शन भी बंगाल में हुए थे। वहीं भाजपा इस पर आक्रामक थी। अब एक बार फिर से उसने चुनाव से पहले यह मुद्दा उठा दिया है। पश्चिम बंगाल की करीब एक तिहाई सीटों पर मुस्लिमों का अच्छा खासा असर है। इसके अलावा बांग्लादेशी घुसपैठ यहां एक बड़ा मुद्दा हमेशा से रहा है। इसलिए भाजपा को लगता है कि सीएए और घुसपैठ के मुद्दे पर वह ध्रुवीकरण करा सकती है।

ममता बनर्जी सरकार के कई मंत्री घोटालों के आरोप में गिरफ्तार भी हो चुकी हैं। इस तरह भ्रष्टाचार के मसले पर पहले ही ममता बनर्जी सरकार को भाजपा बैकफुट पर धकेलने की कोशिश में है। अब सीएए और घुसपैठ के मुद्दे से वह अपने अभियान को और धार देगी। अमित शाह ने तो साफ कहा कि ममता बनर्जी सरकार में घुसपैठियों को खुलकर आधार कार्ड और वोटर आईडी बांटे जा रहे हैं। ममता बनर्जी के राज्य में बंगाल हर दिशा में पीछे जा रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें