ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशमहुआ मोइत्रा की जा सकती है संसद सदस्यता, लोकसभा में पेश हुई रिपोर्ट; जमकर हंगामा

महुआ मोइत्रा की जा सकती है संसद सदस्यता, लोकसभा में पेश हुई रिपोर्ट; जमकर हंगामा

TMC सांसद महुआ मोइत्रा को आज लोकसभा से निष्कासित किया जा सकता है। कैश के बदले सवाल वाले आरोपों में घिरीं महुआ मोइत्रा की जांच को लेकर गठित एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट आज सदन में पेश हो गई।

महुआ मोइत्रा की जा सकती है संसद सदस्यता, लोकसभा में पेश हुई रिपोर्ट; जमकर हंगामा
Surya Prakashहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीFri, 08 Dec 2023 12:26 PM
ऐप पर पढ़ें

तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा को आज लोकसभा से निष्कासित किया जा सकता है। कैश के बदले सवाल वाले आरोपों में घिरीं महुआ मोइत्रा की जांच को लेकर गठित एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट आज सदन में पेश हो गई। इस पर जमकर हंगामा हुआ तो लोकसभा को 2 बजे तक के लिए स्थगित करना पड़ा। यदि कमेटी की सिफारिशों को मान लिया जाता है और सरकार उनके निष्कासन का प्रस्ताव लाती है तो फिर टीएमसी की फायरब्रांड सांसद को अपनी सदस्यता खोनी पड़ सकती है। हालांकि मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल अब 6 महीने से भी कम का बचा है। ऐसे में महुआ मोइत्रा इसे अगले चुनाव में भुना सकती हैं। ममता बनर्जी ने इस मामले पर कहा था कि इससे महुआ मोइत्रा को कोई नुकसान नहीं बल्कि फायदा ही होगा।

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के अलावा टीएमसी के सांसद मांग कर रहे हैं कि इस रिपोर्ट पर पहले लोकसभा में विस्तार से चर्चा हो। दोपहर 12 बजे सदन में इस रिपोर्ट को पेश किया गया। विपक्ष अब इस पर चर्चा की मांग कर रहा है। सरकार इस बहस का जवाब भी दे सकती है। पहले यह रिपोर्ट 4 दिसंबर को ही सदन में आनी थी, लेकिन पेश नहीं की गई।

महुआ मोइत्रा के अलावा बसपा सांसद दानिश अली के खिलाफ भी रिपोर्ट की सिफारिशों के आधार पर ऐक्शन भी हो सकता है। विपक्ष के कई सांसदों का कहना है कि महुआ मोइत्रा पर कोई फैसला लेने से पहले डिबेट होनी चाहिए। अधीर रंजन चौधरी ने तो लोकसभा स्पीकर को भी खत लिखा है। उन्होंने कहा कि निष्कासन की सजा बहुत बड़ी है और उसमें सुधार करने की जरूरत है। उन्होंने ओम बिरला को लिखे लेटर में कहा कि महुआ मोइत्रा के खिलाफ गलत व्यवहार की सही परिभाषा नहीं दी गई है। 

वहीं बसपा के सांसद दानिश अली का कहना है कि रिपोर्ट पेश हुई तो हम जोर देंगे कि उस पर चर्चा हो। इसकी वजह यह है कि रिपोर्ट को भी ढाई मिनट की ही चर्चा के बाद स्वीकार कर लिया गया था। विनोद कुमार सोनकर की अध्यक्षता में 9 दिसंबर को एथिक्स कमेटी की मीटिंग हुई थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें