DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  'सत्ता गंवाने पर पेट में दर्द हो रहा है उनको सियासी दवाई दूंगा', बिना नाम लिए विरोधियों पर बरसे उद्धव ठाकरे, बोले- हिंदुत्व कंपनी नहीं है
देश

'सत्ता गंवाने पर पेट में दर्द हो रहा है उनको सियासी दवाई दूंगा', बिना नाम लिए विरोधियों पर बरसे उद्धव ठाकरे, बोले- हिंदुत्व कंपनी नहीं है

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Sat, 19 Jun 2021 09:10 PM
'सत्ता गंवाने पर पेट में दर्द हो रहा है उनको सियासी दवाई दूंगा', बिना नाम लिए विरोधियों पर बरसे उद्धव ठाकरे, बोले- हिंदुत्व कंपनी नहीं है

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बिना नाम लिए अपने विरोधियों पर निशाना साधा है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि 'शिवसेना पहले से कहीं ज्यादा मजबूती के साथ उभरी है। सत्ता गंवाने के बाद कुछ लोगों के पेट में दर्द हो रहा है। मैं उनको दवाई नहीं दे सकता लेकिन मैं उनको सियासी दवाई दूंगा।' विरोधियों पर निशाना साधते हुए महाराष्ट्र के सीएम ने आगे कहा कि 'हिंदुत्व एक कंपनी नहीं है, जिसे लेकर वो कहते हैं कि शिवसेना ने उसे छोड़ दिया है और कांग्रेस तथा एनसीपी के साथ गठबंधन कर सरकार बना लिया। हिंदुत्व दिल से आता है। कुछ लोग यह जानना चाहते हैं यह सरकार कब तक जाएगी। वो हम लोग देखेंगे, लेकिन इस समय हमें गरीबों के लिए काम करना है।'

महाराष्ट्र के सीएम ने आगे कहा कि कुछ लोग यह आरोप लगाते हैं कि मैं घर से बाहर नहीं निकलता। अगर मैं घर पर बैठकर इतना काम कर रहा हूं तो सोचिए अगर मैं घर से बाहर निकला तब क्या होगा। हाल ही में शिवसेना और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना नेता ने कहा कि 'बालासाहेब ने कहा है कि अगर कोई तुम्हें मारता है तो आपको जवाब देना चाहिए। यह बयान पिछले कुछ दिनों से काफी वायरल हुआ है। हमें पता है कि यह क्यों वायरल हुआ है।'

कुछ दिनों पहले महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले ने कहा था कि भविष्य में होने वाले चुनावों में कांग्रेस अकेले ही ताल ठोकेगी। इसपर बिना कांग्रेस नेता का नाम लिए अपनी बात रखते हुए शिवसेना चीफ ने कहा कि शिवसेना के पास भी अधिकार है कि वो अकेले चुनाव लड़े। सीएम ने कहा कि 'कुछ लोग अकेले जाने की बात कर रहे हैं। मैं भी कहता हूं कि हम भी अकेले जा सकते हैं। सभी को ऐसा करने का अधिकार है। अकेले लड़ना सिर्फ चुनाव तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए।' 

पार्टी के 55वें स्थापना दिवस पर अपनी बात रखते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि 'हमारा एक संघीय ढांचा है। जब कभी क्षेत्रीय गौरव खतरे में पड़ेगा संघीय ढांचा दबाव में आएगा। पश्चिम बंगाल इसका एक उदाहरण है। चुनाव से पहले बंगाल में सभी तरह के हमले हुए, लेकिन बंगाली गौरव के लिए सभी एक साथ खड़े रहे। बंगाल ने बताया है कि किस तरह क्षेत्रीय गौरव को बचाया जाता है।'

संबंधित खबरें