ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमुजरा से लेकर विरासत कर तक, लोकसभा चुनाव में विवादित बयानों की लगी झड़ी

मुजरा से लेकर विरासत कर तक, लोकसभा चुनाव में विवादित बयानों की लगी झड़ी

कन्हैया कुमार के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में राहुल गांधी ने सैनिकों को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर अग्निपथ योजना को खत्म करेंगे।

मुजरा से लेकर विरासत कर तक, लोकसभा चुनाव में विवादित बयानों की लगी झड़ी
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 26 May 2024 05:15 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर 7 चरणों में मतदान की प्रक्रिया जारी है। 1 जून को अंतिम चरण का मतदान होना है। इससे पहले, टॉप के कई नेता सार्वजनिक रैलियों के दौरान विवादास्पद टिप्पणियां कर चुके हैं। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी तक शामिल हैं। इसे लेकर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस दोनों दलों के नेता चुनाव आयोग से इसकी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। ध्यान देने वाली बात यह भी है कि इस तरह के बयानों का सिलसिला अभी भी जारी है। हम आपको यहां पर 5 सबसे ज्यादा विवादास्पद बयानों का जिक्र कर रह हैं...

पीएम मोदी का मुजरा वाला बयान
पीएम मोदी ने विपक्षी गठबंधन इंडिया पर शनिवार को तीखा हमला किया था। उन्होंने उस पर मुस्लिम वोट बैंक के लिए गुलामी और मुजरा करने का आरोप लगाया। उन्होंने अल्पसंख्यक संस्थानों में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और अन्य पछड़ा वर्ग को आरक्षण से वंचित करने के लिए राजद और कांग्रेस जैसे दलों को जिम्मेदार ठहराया। मोदी ने कहा, ‘बिहार वह भूमि है जिसने सामाजिक न्याय की लड़ाई को एक नई दिशा दी है। मैं इस प्रदेश की भूमि पर यह घोषणा करना चाहता हूं कि मैं एससी, एसटी और ओबीसी के अधिकारों को लूटने और उन्हें मुसलमानों को देने की इंडिया गठबंधन की योजनाओं को विफल कर दूंगा। वे गुलाम बने रह सकते हैं और अपने वोट बैंक को खुश करने के लिए मुजरा कर सकते हैं।' मोदी ने यह भी आरोप लगाया कि विपक्षी गठबंधन उन लोगों के समर्थन पर भरोसा कर रहा है जो ‘‘वोट जिहाद’’ में लिप्त हैं। साथ ही उन्होंने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश का हवाला दिया, जिसमें कई मुस्लिम समूहों को ओबीसी की सूची में शामिल करने के पश्चिम बंगाल सरकार के फैसले को रद्द कर दिया गया है।

2 तरह के सैनिक वाली टिप्पणी
कन्हैया कुमार के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में राहुल गांधी ने सैनिकों को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा कि केंद्र में इंडिया गठबंधन की सरकार बनने पर सेना में भर्ती की अग्निपथ योजना को खत्म कर दिया जाएगा, क्योंकि यह सेना के खिलाफ है। राहुल ने कहा कि पीएम मोदी ने 2 तरह के सैनिक पैदा कर दिए हैं। उनका कहना था, ‘अग्निपथ योजना को हम कूड़ेदान में फेंकने वाले हैं, क्योंकि यह सेना के खिलाफ है, देशभक्ति के खिलाफ है। एक सैनिक को शहीद का दर्जा मिलेगा, पेंशन मिलेगी, लेकिन अग्निवीर को न शहीद का दर्जा मिलेगा, न ही पेंशन मिलेगी और न ही सामाजिक सुरक्षा मिलेगी।’ उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था का इंजन बंद कर दिया, लेकिन जब इंडिया गठबंधन की सरकार बनेगी तो गरीबों व युवाओं को आर्थिक मदद देकर इस इंजन को फिर से चालू किया जाएगा।

सैम पित्रोदा का विरासत कर वाला बयान 
इंडिया ओवरसीज कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने संपत्ति वितरण को लेकर विवादति बयान दिया था। कांग्रेस नेता ने कहा था, 'अमेरिका में विरासत कर लगता है। अगर किसी के पास 10 करोड डॉलर की संपत्ति है और जब वह मर जाता है तो वह केवल 45 फीसदी अपने बच्चों को ट्रांसफर कर सकता है।' उन्होंने कहा कि यह वाकई एक दिलचस्प कानून है। इस बयान पर पलटवार करते हुए पीएम मोदी कहा था कि आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी। कांग्रेस का पंजा वो भी आपसे लूट लेगा। कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र में मुस्लिम लीग की छाप दिखाई दे रही है। कांग्रेस की नजर आपके मकान, दुकान और खेत पर है जो आपकी संपत्ति पर नजर जमाए हुए है और लूटना चाहते हैं।

भगवान जगन्नाथ को लेकर संबित पात्रा ने क्या कह दिया 
भगवान जगन्नाथ पर जुबान फिसलने को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेता और पुरी लोकसभा सीट से प्रत्याशी संबित पात्रा विवादों में घिर गए थे। पात्रा ने सोमवार को टेलीविजन चैनलों से बातचीत में कहा था कि राज्य के प्रतिष्ठित देवता भगवान जगन्नाथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भक्त हैं। पात्रा ने बाद में स्पष्ट किया था कि यह सिर्फ जुबान फिसलने के कारण हुआ और वह यह कहना चाहते थे कि प्रधानमंत्री भगवान जगन्नाथ के परम भक्त हैं। पात्रा ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर कहा, ‘इस गलती के लिए मैं भगवान जगन्नाथ के चरणों में सिर झुकाकर क्षमा मांगता हूं। मैं इस गलती का प्रायश्चित करने के लिए अगले तीन दिन उपवास करूंगा।’ पात्रा की टिप्पणी पर विवाद तब बढ़ गया जब ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटायक ने उनके बयान की कड़ी निंदा की और भाजपा से भगवान जगन्नाथ को राजनीति में न घसीटने की अपील की। पटनायक ने एक्स पर एक पोस्ट में ओडिया अस्मिता को ठेस पहुंचाने के लिए पात्रा की आलोचना की।

भाजपा नेता नवनीत राणा का ओवैसी भाइयों पर तीखा हमला
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरुद्दीन पर बीजेपी लीडर नवनीत राणा ने तीखा हमला बोला था। उन्होंने कहा कि अगर 15 सेकंड के लिए पुलिस को ड्यूटी से हटा दें तो दोनों भाइयों को पता नहीं चलेगा कि वे कहां से आए और कहां गए। राणा का बयान एआईएमआईएम विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी के 2013 में दिए गए उस विवादित भाषण के जवाब में आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर पुलिस को हटा दिया जाए तो देश में हिंदू-मुस्लिम अनुपात को बराबर लाने में उन्हें केवल 15 मिनट लगेंगे। महाराष्ट्र की अमरावती लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार राणा ने कहा, ‘छोटा (अकबरुद्दीन) बोलता है कि पुलिस को 15 मिनट के लिए हटाओ तो दिखाएंगे कि हम क्या कर सकते हैं। मेरा कहना है तुम 15 मिनट लगाओगे पर हमको 15 सेकंड लगेंगे। अगर 15 सेकंड पुलिस को हटाया तो छोटे और बड़े को यह पता नहीं लगेगा कहां से आए और कहां गए।’
(एजेंसी इनपुट के साथ)