Loksabha Elections 2019 this election seems Modi vs entire Opposition - Loksabha elections 2019: पीएम मोदी बनाम विपक्ष नजर आ रहा यह चुनाव DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Loksabha elections 2019: पीएम मोदी बनाम विपक्ष नजर आ रहा यह चुनाव

PM Modi on One day Uttar Pradesh visit to inaugurate several developmental projects (File Pic)

1 / 2PM Modi on One day Uttar Pradesh visit to inaugurate several developmental projects (File Pic)

pm narendra modi photo livemint

2 / 2pm narendra modi photo livemint

PreviousNext

भाजपा इस लोकसभा चुनाव में भी पिछली बार की तरह प्रचंड बहुमत पाने के लिएजी जान से जुटी है तो विपक्ष भी एकजुट होकर उसे सत्ता से बेदखल करने की कवायद में जुटा है। कुल मिलाकर यह चुनाव मोदी बनाम विपक्ष नजर आ रहा है।.

भाजपा इस चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को लेकर मैदान में उतर रही है। जबकि विपक्ष एकजुट तो है लेकिन मोदी के मुकाबले के लिए कोई चेहरा पेश नहीं कर पाया है। ऐसे में लोकसभा चुनाव की परिस्थितियां पिछले चुनाव से एकदम भिन्न हैं।.

वर्ष 2014 में जब लोकसभा का चुनाव हुआ था तब यूपीए को सत्ता में दस साल हो रहे थे। भ्रष्टाचार एवं अन्य कारणों के चलते सत्ता विरोधी लहर चल पड़ी थी। भाजपा को यूपीए के प्रति नाराजगी और सत्ता से बाहर होने की सहानुभूति का लाभ मिला। उसने राष्ट्रीय स्तर पर उभर रही नरेंद्र मोदी की छवि को भी पूरे देश में भुनाया और 30 साल के बाद कोई पार्टी (भाजपा) स्पष्ट बहुमत लेकर सरकार बनाने में सफल रही। 

Lok Sabha Chunav 2019:  भाजपा की साख दांव पर, सपा-बसपा का लिटमस टेस्ट

लेकिन अब राजनीतिक स्थितियां काफी बदली हुई हैं। विश्लेषकों का मानना है कि गुजरात, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड जैसे राज्यों में सारी सीटें जीतना भी आसान नहीं है। गुजरात में कांग्रेस पहले से मजबूत हुई है। यूपी में सत्ता-बसपा के हाथ मिलाने से वहां भी चुनौतियां बढ़ी हैं। 

यदि मोदी बनाम समूचे विपक्ष की बात करें तो साफ है कि विपक्ष के पास मोदी के मुकाबले का कोई बड़ा चेहरा नहीं है। यहां तक कि पिछले चुनाव में उत्तर प्रदेश में बसपा, तमिलनाडु में द्रमुक खाता नहीं खोल पाए थे। 

महासंग्राम के महारथी 

नरेंद्र मोदी 
2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत दिलाने वाले नरेंद्र मोदी न सिर्फ सरकार, बल्कि पार्टी का भी चेहरा बने हुए हैं। उनके नेतृत्व में भाजपा यूपी में ऐतिहासिक जीत दर्ज करने के साथ ही पूर्वोत्तर में दस्तक देने में सफल रही।

मायावती 
यूपी में सियासी जमीन बचाने की जद्दोजहद में जुटी बसपा को दोबारा उबारने का जिम्मा। दरअसल, पार्टी 2014 के लोकसभा चुनाव में खाता तक नहीं खोल पाई थी। .

अमित शाह
यूपी समेत तमाम राज्यों में जीत का श्रेय जाता है। पर एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में हार के बाद अब पार्टी को फिर केंद्र की सत्ता में लाने का दारोमदार होगा। .

अखिलेश यादव
यूपी के मुख्यमंत्री रहे अखिलेश ने जनवरी 2017 में सपा की कमान संभाली। बसपा से चुनावपूर्व गठबंधन का रणनीतिक फैसला कितना सही है, ये चुनाव से साबित होगा।.

प्रियंका गांधी 
जनवरी 2019 में सक्रिय राजनीति में पदार्पण। नई महासचिव से पार्टी को तमाम उम्मीदें हैं। 41 लोकसभा सीटों वाले पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी भी बनाई गईं। .

राहुल गांधी
दिसंबर 2017 में कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभाला। 2018 में कर्नाटक में जेडीएस से गठबंधन में अहम भूमिका निभाई। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जीत के बाद पहली बार लोकसभा चुनाव का सामना करने जा रहे हैं।.

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Loksabha Elections 2019 this election seems Modi vs entire Opposition